Home Delhi Dwarka Express Way का काम अगस्त 2021 तक होगा पूरा

Dwarka Express Way का काम अगस्त 2021 तक होगा पूरा

158
0

असल न्यूज़: द्वारका एक्सप्रेस वे के पूरा होने से न सिर्फ एनएच-8 पर ट्रैफिक का दबाव कम होगा बल्कि दिल्ली से जयपुर जाने वालों को खेड़कीदौला टोल से भी निजात मिल जाएगी। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने द्वारका एक्सप्रेस वे का दौरा करने के बाद द्वारका में आयोजित प्रेस वार्ता के दौरान यह बात कही। उन्होंने बताया कि 29 किलोमीटर लंबा यह नया हाइवे गुरुग्राम बाइपास का काम करेगा और इससे गुरुग्राम से आने वाली गाड़ियों को एक नया विकल्प मिल जाएगा। इसकी वजह से न सिर्फ ट्रैफिक कम होगा बल्कि प्रदूषण के स्तर में भी कमी आएगी। यह एक्सप्रेस खेड़कीदौला टोल प्लाजा के पास समाप्त होगा। एनएच-8 के दिल्ली गुरुग्राम सेक्सन पर अभी काफी अधिक ट्रैफिक है। करीब तीन लाख गाड़ियां इससे गुजरती हैं। यह बाइसपास इस पर दबाव को कम करेगा। हाइवे का 18.9 किलोमीटर हिस्सा हरियाणा में हैं और 10.1 किलोमीटर हिस्सा दिल्ली में हैं।

आठ लेन के इस हाइवे में सर्विस लेन भी है। नितिन गड़करी ने बताया कि इस एक्सप्रेस वे का काम चार हिस्सों में किया जा रहा है। पहले हिस्से में शिव मूर्ति से द्वारका सेक्टर-21 तक 5.90 किलोमीटर का हिस्सा है। दूसरा चरण इस से लेकर दिल्ली हरियाणा बॉर्डर तक है। यह चरण 4.20 किलोमीटर लंबा है। तीसरे चरण में हरियाणा बॉर्डर से बसई धनकोट (हरियाणा) तक 10.2 किलोमीटर की सड़क तैयार की जा रही है। वहीं चौथे चरण में बसई धनकोट से हाइवे आठ तक 8.75 किलोमीटर हिस्से पर काम चल रहा है।

इस एक्सप्रेस वे में दुनिया की सबसे उंची इमारत बुर्ज खलीफा से छह गुना अधिक कंकरीट का इस्तेमाल किया जा रहा है। करीब 20 लाख CUM कंकरीट का इस्तेमाल इसमें किया जा रहा है। इसी तरह एफिल टावर से 30 गुना अधिक स्टील का इस्तेमाल इसमें किया गया है। प्रोजक्ट में 2 लाख मिट्रिक टन स्टील की खपत हो रही है। नितिन गड़करी ने कहा कि हम स्टील और सीमेंट इंडस्ट्री को सपोर्ट कर रहे हैं, लेकिन उन्हें भी महंगाई को कंट्रोल कर हमारा ख्याल रखना चाहिए। हमारे प्रोजक्ट इस महंगाई की वजह से प्रभावित हो रहे हैं। हम इनके विकल्प भी ढूंढ रहे हैं।

इकलौता एक्सप्रेस वे यहां चार लेवल होंगे
यह देश का इकलौता ऐसा प्रोजक्ट हैं यहां चार लेवल पर ट्रैफिक गुजरेगा। इसमें एक टनल/अंडरपास शामिल है। इसके उपर एट ग्रेड रोड रहेगी। यानी जमीनी स्तह पर भी सड़क होगी जिससे ट्रैफिक गुजरेगा। इसके उपर एक एलिवेटेड फ्लाईओवर बनेगा। इस फ्लाईओवर के उपर एक अन्य फ्लाईओवर भी होगा।

सबसे लंबी अर्बन रोड टनल
इस एक्सप्रेस वे पर सबसे लंबी अर्बन रोड टनल होगी। इस टनल 3.6 किेलोमीटर लंबी होगी और इसकी चौड़ाई 8 लेन की होगी। इसके अलावा सिंगल पियर पर बना सबसे लंबा फ्लाईओवर भी इस प्रोजक्ट का हिस्सा होगा। यह फ्लाईओवर 9 किलोमीटर लंबा और 8 लेन का होगा। इसमें 6 लेन सर्विस रोड भी शामिल होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here