Home Delhi नरेला अनाज मंडी पहुंचे मंत्री गोपाल राय, FCI अधिकारियों को लगाई फटकार.

नरेला अनाज मंडी पहुंचे मंत्री गोपाल राय, FCI अधिकारियों को लगाई फटकार.

109
0

असल न्यूज़। दिल्ली सरकार का बड़ा आरोप किसानों का गेहूं एमएसपी पर खरीदने के लिए फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया तैयार नहीं. साथ ही इस मामले में PM मोदी से हस्तक्षेप करने की अपील और FCI अधिकारियों को दिल्ली के कृषि मंत्री गोपाल राय ने लगाई फटकार दिल्ली में किसानों को किसानी का दर्जा नहीं। दिल्ली में गेहूं बेचने वाले को FCI कैसे माने किसान।

यह भी एक संकट FCI के सामने है क्योंकि अधिकतर गेहूं प्राइवेट व्यापारी भी बेचते हैं। क्योंकि FCI एमएसपी पर किसानों से ही खरीद करती है व्यापारियों से नहीं। दिल्ली के किसानों के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है। गेहूं की फसल कटने के बाद अब उनका अनाज एमएसपी पर खरीदने के लिए FCI तैयारी नहीं है। दिल्ली सरकार के कृषि मंत्री गोपाल राय ने ये दावा करते हुए पीएम मोदी से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की है।

इतना ही नहीं उन्होंने इस मामले में FCI अधिकारियों को भी फटकार लगाई और ज्लद से जल्द किसानों की समस्या हल करने को कहा। गोपाल राय ने आगे कहा कि किसान आंदोलन के समय में गेहूं की फसल देशभर में पककर तैयार हो चुकी है। लेकिन FCI द्रारा पुख्ता इंतजाम न होने के कारण किसानों को भाड़ी परेशानियों का सामना कर रहा पर रहा है।

जानकारी के लिए बता दें कि नरेला अनाज मंडी में किसानों की गेहूं 1750 रुपए प्रति क्विंटल से 1770 रुपए प्रति क्विंटल तक बिक रही है। यहां पर इन किसान नेताओं ने दावा किया कि सरकार की तरफ से एमएसपी नरेला अनाज मंडी में 1975 रुपए प्रति क्विंटल है। वहीं तय कीमत के हिसाब से गेहूं नही बिकने का मुद्दा इन किसानों के प्रतिनिधिमंडल ने उठाया और कहा कि यहां पर किसानों की पूरी गेहूं खरीदी भी नहीं जा रही है।

जहां एक तरफ केंद्र सरकार किसान आंदोलन को खत्म करने की बात कर रही हैं वहीं दूसरी तरफ सरकार का दावा फेल होता जा रहा है। लेकिन सवाल ये उठता है कि एमएसपी है। और एमएसपी रहेगा तो एमएसपी पर किसानों की गेहूं की फसल क्यों नहीं बिक पा रही है। यदि दिल्ली सरकार दिल्ली में किसानों को किसानी का दर्जा दे दे तो समस्या का काफी हद तक समाधान हो सकता है।

दिल्ली की सरकार दिल्ली के किसानों को किसान का दर्जा ऑन रिकॉर्ड दे नहीं रही है उल्टा केंद्र सरकार की संस्थाओं पर आरोप लगा रही है। अब देखने वाली बात होगी की केंद्र या दिल्ली सरकार इस मामले में कोई संज्ञान लेती है या नहीं या फिर किसान यूं ही पिस्ता रहेगा।

इस मौके पर चेयरमैन नरेला अनाज मंडी संजय गुप्ता, विधायक शरद चौहान सहित कई एफसीआई के अधिकारी मौजूद थे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here