Home Lifestyle Somvati Amavasya 2021: सोमवती अमावस्या के दिन बन रहे दो घातक योग,...

Somvati Amavasya 2021: सोमवती अमावस्या के दिन बन रहे दो घातक योग, जानें इनका प्रभाव और शुभ-अशुभ मुहूर्त

545
0

असल न्यूज़: आपको बता दे कि हिंदू धर्म में हर महीने में आने वाली पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है जिसमें पंचांग के अनुसार एक माहर एक अमावस्या तिथि पड़ती है। ऐसे में कुल 12 अमावस्या साल में आती है। सोमवार के दिन आने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहा जाता है। इस साल सोमवती अमावस्या के दिन वैधृति और विष्कंभ योग है। आपको बता दें कि इस साल 2021में सिर्फ एक ही सोमवती अमावस्या पड़ रही है। सोमवती अमावस्या के दिवस वैधृति योग दोपहर 2.28 मिनट तक रहेगा। इसके बाद विष्कुम्भ योग आरंभ हो जाएगा। इस दिन रेवती नक्षत्र सुबह 11 बजकर 30 मिनट तक है। जबकि चंद्रमा सुबह 11.30 बजे मीन राशि और फिर मेष में गोचर करेगा।

शास्त्रों के अनुसार विष्कुम्भ योग को जहर से भरा हुआ घड़ा कहा गया है। जिस तरह विष के सेवन से सारे शरीर में धीरे-धीरे जहर भर जाता है। ठीक इसी तरह यदि इस समय कोई काम किया जाता है तो वह विष की भांति मारा जाता है इसी के चलते इस योग में किए गए कार्य अशुभ फल देते हैं

वैधृति योग

यह योग में कार्य करने हेतु सही है। लेकिन यात्रा करने से इस योग में बचना चाहिए।

सोमवती अमावस्या शुभ मुहूर्त

ब्रह्म मुहूर्त- 4.17 मिनट अप्रैल 13 से 5.02 बजे तक।

अभिजित मुहूर्त- 11.44 बजे ले 12.35 मिनट तक।

विजय मुहूर्त- 2.17 मिनट से 3.07 बजे तक।

गोधूलि मुहूर्त- 6.18 बजे से 6.42 मिनट तक।

अमृत काल- 8.51 मिनट से 10.37 बजे तक।

निशिता मुहूर्त- 11.46 से 12.32 मिनट तक।

सोमवती अमावस्या अशुभ मुहूर्त

राहुकाल- 7.23 से 8.59 बजे तक।

यमगण्ड- 10.34 बजे 12.10 मिनट तक।

गुलिक काल- 1.45 मिनट से 3.20 बजे तक।

दुर्मुहूर्त- 12.35 से 1.26 बजे तक।

गण्ड मूल- पूरे दिन।

पंचक- 5.48 मिनट से 11.30 बजे तक।

महत्व

सोमवती अमावस्या के दिन उपवास रखने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती है। इस दिन पितरों को तर्पण किया जाता है। ऐसा करने से जातकों को पितरों का आशीर्वाद प्राप्त होता है। सोमवती अमावस्या के दिन पीपल पेड़ की परिक्रमा करना शुभ होता है। कहा जाता है कि पीपल में भगवान का वास होता है। ऐसा करने से सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here