Home Delhi नरेला में पुलिसकर्मियों ने की इंसानियत मिसाल पेश.

नरेला में पुलिसकर्मियों ने की इंसानियत मिसाल पेश.

324
0

अजय शर्मा: राजधानी दिल्ली में लगातार हालात भयावह होते जा रहे हैं कोरोना से ग्रसित लोगों की मौत का सिलसिला भी बढ़ता जा रहा है ऐसे में कई लोग तो ऐसे हैं जिन्हें उनके परिवार के द्वारा अंतिम संस्कार तक नसीब नहीं हो रहा ऐसे लोगों की दिल्ली पुलिस द्वारा सहायता की जा रही है इसा ही एक मामला नरेला से आया है नरेला थाना पुलिस स्टेशन में तैनात दो पुलिसकर्मियों द्वारा कोरोना से हुई एक महिला की मौत के बाद उसका अंतिम संस्कार किया गया

27 तारिख को गौतम कॉलोनी, नरेला के सुशीला हॉस्पिटल में एक कोरोना पॉजिटिव रोगी के निधन की सूचना बीट ऑफिसर को मिली. कॉन्स्टेबल अशोक ने अस्पताल के प्रशासन से नरेला ठाणे में तैनात कॉन्स्टेबल अशोक और नवीन को जानकारी मिली कि एक महिला कोरोना पॉजिटिव होने के चलते इलाज के दौरान मृत्यु हो गई है मृत महिला को 22 तारीख को अस्पताल में भर्ती कराया गया और 27 तारीख को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. उपरोक्त मृतक के परिवार के सदस्य अस्पताल में मौजूद थे, लेकिन श्मशान की औपचारिकताओं को पूरा करने की स्थिति में नहीं थे और आम जनता से कोई भी उन्हें सहायता प्रदान करने के लिए आगे नहीं आ रहा था.

मामले की गंभीरता को देखते हुए, नरेला थाने के उपर्युक्त दोनों कांस्टेबलों ने अस्पताल से डेडबॉडी को प्याऊ मनिहारी रोड पर बने श्मशान घाट तक अंतिम संस्कार के लिए एम्बुलेंस की व्यवस्था की. जब यह देखा गया कि शव को श्मशान घाट पर जाने के बाद भी कोई अंतिम संस्कार के लिए आगे नहीं आया तो पुलिसकर्मियों द्वारा ही महिला का सभी सामग्रियों के लाने के बाद अंतिम संस्कार ही करवाया गया.

दोनों कांस्टेबल अशोक और नवीन द्वारा किया गया इस कार्य को जिसने भी सुना वो इनकी तारीफ किये जा रहा है इन दोनों पुलिसकर्मियों द्वारा किया गया इस महान कार्य से यह साबित हुआ है की इनसानियत अभी जिन्दा है, इन दोनों ने इंसानियत और पुलिस के फर्ज को निभाते हुए अपनी जान को जोख़िम में डालते हुए जो कार्य किया है वो कबीले तारीफ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here