Home Covid-19 COVID-19 रिपोर्ट आने तक घर पर नहीं रहने वालों के खिलाफ दर्ज...

COVID-19 रिपोर्ट आने तक घर पर नहीं रहने वालों के खिलाफ दर्ज होगा केस

180
0

असल न्यूज़: कोविड-19 जांच के लिए नमूने देने के बाद घर पर क्वारंटाइन रहने के बजाय बाहर घूमने वालों पर अब कार्रवाई होगी। नियम तोड़ने वालों के खिलाफ महामारी अधिनियम 1897 व आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया जाएगा। गुरुग्राम जिले में कोरोना के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला उपायुक्त डॉ. यश गर्ग ने नियम तोड़ने वालों से सख्ती से पेश आने के निर्देश दिए हैं।

उपायुक्त डॉ. यश गर्ग ने कहा कि जो व्यक्ति कोविड-19 संबंधित लक्षण दिखाई देने पर अपनी जांच करवाने के लिए नमूने दे रहे हैं, वह जांच रिपोर्ट आने तक अपने घर में सेल्फ आइसोलेशन में रहें। उपायुक्त ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में जरूरी है कि आमजन कोरोना संक्रमण की रोकथाम में जिला प्रशासन का सहयोग करे और लॉकडाउन नियमों का गंभीरता से पालन करे। उन्होनें कहा कि वर्तमान में 4-टी मंत्र यानी टेस्टिंग, ट्रेकिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट का विशेष ध्यान रखा जाना अत्यंत आवश्यक है।

स्वास्थ्य विभाग उन लोगों के लगातार संपर्क में है जो कोरोना संक्रमित होने के बाद होम आइसोलेशन में रह रहे हैं। ऐसे मरीजों की काउंसलिंग की जा रही है और उन्हें सामान्य गाइड लाइन के बारे में बताया जा रहा है। उन्होंनें कहा कि लोगों को मास्क पहनने, सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन करने, और टीकाकरण के बारे में जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि कोई भी व्यक्ति जांच कराने के बाद रिपोर्ट आने तक धर से बाहर घूमता हुआ पाया गया, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

चार दिन में बिना मास्क वाले 1339 लोगों के चालान

उपायुक्त ने बताया कि मास्क पहनना और लॉकडाउन का पालन करना अनिवार्य है। उन्होंने बताया कि बीते चार दिन में जिले में मास्क न पहनने वाले 1339 लोगों का पुलिस की ओर से चालान किया गया है। शनिवार 1 मई को 357, रविवार को 251, सोमवार को 290 और मंगलवार 4 मई को 441 लोगों का मास्क न पहनने पर चालान किया गया। इसी प्रकार, लॉकडाउन नियमों का पालन नही करने वालों से भी जिला प्रशासन सख्ती से निपट रहा है। जिले में 1 मई को 25, रविवार 2 मई को 1, सोमवार 3 मई को 2 और मंगलवार 4 मई को 20 लोगों पर लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस द्वारा मामला दर्ज किया गया है।

तीन हजार नमूनों की सरकारी लैब में लंबित है रिपोर्ट

कोरोना जांच के लिए जिले में रोजाना औसतन 10 हजार से ज्यादा लोगों के नमूने लिए जा रहे हैं। लैब को 24 से 36 घंटे में जांच रिपोर्ट देने के निर्देश हैं, लेकिन लोगों को चार से पांच दिनों में भी रिपोर्ट मुश्किल से मिल पा रही है। इसी के चलते लोग रिपोर्ट लेने के लिए केंद्रों पर चक्कर लगा रहे हैं। सरकारी लैब में ही अभी तक जिले के 3 हजार से ज्यादा लोगों की जांच रिपोर्ट लंबित है। इसके अलावा लगभग इतने ही नमूनों की रिपोर्ट निजी लैब में भी लंबित पड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here