पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के देहांत बाद, अकाली दल का फैसला होगी चुनाव रैली

करनाल।। हरियाणा कमेटी की हंगामी मीटिंग रविवार को हरप्रीत सिंह नरूला के पंप पर हुई। आज मीटिंग में जगदीश सिंह झींडा ने पत्रकारों को बताया कि हरियाणा गुरूद्वारा कमेटी ने आज 19 तारीख को होने वाले महास मेलन जागो हरियाणा को रद्द इसलिए किया क्योंकि देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी की देहांत होने से सारा देश दुख में है। इस हालातों में रैली या समेलन करना हरियाणा कमेटी मानवता को ध्यान में रखते हुए जागो हरियाणा समेलन को स्थगित कर दिया था। परंतु अकाली दल बादल जोकि भाजपा पार्टी को बैसाखियों पर पंजाब में अकाली सरकार बनाते रहे हैं। अकाली दल बादल ने पिपली में चुनावी रैली करके साबित कर दिया। यह कुर्सी के लिए कोई भी घटिया से घटिया फैसला ले सकते हैं।

सिख कौम बादल परिवार को कौम का गद्दार पहले हो चुकी है। आज रैली करके यह अकाली दल देश का भी गद्दार साबित हुआ है। हरियाणा कमेटी भाजपा पार्टी से हर सिमरत को मंत्री से बरखास्त करे और भाजपा, राजनीतिक तौर पर बादल दल से अपना नाता तोड़े। नहीं लोग भाजपा को बादल दल की तरह दोषी मानेंगे। क्योंकि क्योंकि वाजपेयी पूर्व प्रधानमंत्री देश के हर वर्ग को साथ लेकर चलते थे। वह राजनीति के भीष्म पितामह थे। अटल बिहारी वाजपेयी का देहांत होने के बाद भी अकाली दल को रैली होने से इसका खामियाजा ाुगतना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि जहां तक रैली का सवाल है बादल दल की रैली पूर्ण तरह बुरी तरह फेल हुई सिजमें पुलिस व गुरूद्वारों को मुलाजिम और पंजाब से बस कर लाने से भी रैली में 6300 की भीड ही जुटा पाए और 100 नौजवनों ने रैली का काले झंडे दिखाकर विरोध ऐसा किया कि बादल क ाी हरियाणा की तरफ मुंह नहीं करेगा। और यदि अकेला इलेक्षन लडेगा तो एक हल्के से 500 से ज्यादा वोट प्राप्त नहीं कर सकेगा। आज हरियाणा में बादल को अपनी औकात का पता चल चुका है। इस रैली को सफल बनाने के लिए सारे पंजाब के हरियाणा में डेरा डाले हुए थे। जिसमें सभी शिरोमणी कमेटी प्रधान समेत 3 करोड़ खर्च करने के बाद यह 3 हजार आदमी हरियाणा से इकट्ठे नहीं कर सके। इस मौके पर हरप्रीत सिंह नरूला युवा प्रधान, हरभजन सिंह, रणजीत सिंह, सुखवंत सिंह चीमा आदि मौजूद रहे।

COMMENTS

%d bloggers like this: