केजरीवाल के माफीनामे से नाराज AAP सांसद भगवंत मान ने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दीया !

असल न्यूज़-दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार 15 मार्च को शिरोमणि अकाली दल के नेता बिक्रम सिंह मजीठिया पर मादक पदार्थ के व्यापार में शामिल होने का निराधार आरोप लगाने के लिए माफी मांगी थी. केजरीवाल के माफी मांगने के बाद मजीठिया ने उनके खिलाफ दायर किये गए मामले को वापस लेने का फैसला किया. केजरीवाल के माफी मांगने पर मजीठिया ने कहा था उन्हें खुशी है कि सत्य की जीत हुई और केजरीवाल को उनकी गलती का एहसास हुआ.

इस ‘निरीह आत्मसमर्पण’ के प्रति आम आदमी पार्टी की पंजाब इकाई के नेताओं ने गुस्सा जाहिर किया था. उन्होंने केजरीवाल के इस कदम को ‘निराश करने वाला’ बताया था. हालांकि दिल्ली में बैठे आप नेताओं का कहना है कि यह कदम अदालती मामले को बंद कराने के लिहाज से उठाया गया जहां केजरीवाल खुद को फंसता देख रहे थे. साथ ही उन्होंने इशारा किया कि यह मामला भी वही मोड़ ले सकता था जो वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा दाखिल मानहानि के मामले ने ले लिया.

पिछले साल पंजाब विधानसभा चुनावों के दौरान मादक पदार्थों के प्रचलन का मुद्दा खूब जोरो- शोरों से उठा था जिसके बाद केजरीवाल ने राज्य सरकार में तत्कालीन मंत्री मजीठिया पर इस व्यापार में शामिल होने का आरोप लगाया था. हालांकि अपनी माफी में केजरीवाल ने कहा कि उन्हें मालूम हुआ कि उनके आरोप निराधार थे.

उधर पंजाब में आम आदमी पार्टी के नेता और राज्‍य विधानसभा में विपक्ष के नेता सुखपाल सिंह खैरा ने केजरीवाल के इस फैसले पर हैरानी जताते हुए कहा है कि ‘हम केजरीवाल द्वारा माफी मांगे जाने से आश्‍चर्यचकित हैं और हमें यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि उनके जैसे कद के नेता द्वारा इस तरह समर्पण करने से पहले हमसे संपर्क नहीं किया गया.’

COMMENTS

%d bloggers like this: