अवैध निर्माण के खिलाफ नगर निगम ने दिखाई सख्ती

करनाल 8 दिसंबर !! अवैध निर्माण के खिलाफ नगर निगम की समय-समय पर चेतावनी के बाद नियमों को अनदेखा कर बिल्डिंग खड़ी करने वाले लोगों के खिलाफ आखिर निगम ने आज मॉडल टाऊन स्थित एक व्यवसायिक भवन के ढांचे को सील कर दिया। सील करने की कार्यवाही उपायुक्त के आदेशों से बनाए गए डयूटी मजिस्ट्रेट नरेन्द्र पाल मलिक के नेतृत्व में की गई। उनके साथ निगम के उप नगर योजनाकार धर्मपाल सिंह, सिविल लाईन थाना प्रभारी मोहन लाल तथा बिल्डिंग इंस्पैक्टर विकास अरोड़ा व राजेश कुमार भी थे।
 बता दें कि सैक्टर-12 से मॉडल टाऊन की ओर जाने वाले सडक़ पर रकम सिंह डाबर नाम के व्यक्ति द्वारा कुछ समय पहले 250 वर्ग गज में अवैध निर्माण की शुरूआत की गई थी। निगम के संज्ञान में आते ही बिल्डिंग मालिक को अवैध निर्माण रोकने के लिए एक के बाद एक तीन नोटिस दिए गए, जिसमें कहा गया कि वह काम रोके और पहले बिल्डिंग का नक्शा पास करवाए और इसके बाद ही आगे की कार्यवाही की जाए। लेकिन भवन मालिक द्वारा नोटिस की पालना करने में नाकाम रहने पर आखिर निगम को आज भवन को सील करने की कार्यवाही करनी पड़ी। सील करने के आदेश कुछ दिन पहले
निगम आयुक्त डॉ. प्रियंका सोनी द्वारा जारी किए गए थे।
 बता देें कि आयुक्त द्वारा शहर के ऐसे तीन अवैध निर्माण को सील करने के आदेश जारी हुए थे, जिनमें से आज एक बिल्डिंग सील हो गई, लेकिन दो अवैध निर्माण करने वाले व्यक्ति  उनकी बिल्डिंग को सील किए जाने के नोटिस को लेकर डिविजनल कमीश्रर से स्टे ले आए। स्टे का आज अंतिम दिन था। आज मण्डलायुक्त की कोर्ट ना होने से स्टे की आगामी तारिख 14 दिसंबर हो जाने से स्टे कंटीन्यूअस रहेगा। इसके बाद ही आगे की कार्यवाही अमल में लाई जाएगी, अर्थात स्टे हटते ही नगर निगम द्वारा दोनों बिल्डिंग भी सील कर दी जाएंगी। दोनो अवैध कॉमर्शियल भवन एन.एच. बाईपास पर स्थित सुधांशु जी महाराज के संतसंग भवन के पास में बनाए गए हैं। गौर हो कि दोनो भवनों का निर्माण रोकने के लिए भी निगम द्वारा कई नोटिस दिए गए थे।
 निगम आयुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने अवैध भवन निर्माताओं के खिलाफ चेतवानी देते हुए कहा है कि जो भी व्यक्ति नगर निगम क्षेत्र में बिना नक्शा पास करवाए अवैध निर्माण करेगा, उसे रोकने व सील करने की कार्यवाही जारी रहेगी।

COMMENTS

%d bloggers like this: