Delhi: मयूर विहार से 12 साल के बच्चे का हुवे अपहरण, दो करोड़ की फिरौती मांगी

12 घंटे में गाजियाबाद पुलिस सुलझाया अपहरण का मामला

दिल्ली।। (अर्श मालिक) मयूर विहार से 12 साल के बच्चे का हुवे अपहरण के मामले में गाजियाबाद के खोड़ा पुलिस ने बच्चे को सकुशल बरामद करते हुए 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया है बच्चे के अपहरण के बाद इस मामले में दो करोड़ की फिरौती मांगी गई थी और बच्चे को गाजियाबाद के खोड़ा में लाकर छिपा किया था।

दिल्ली के न्यू कोंडली  इलाके से स्कूल के बाहर से सातवीं क्लास में पढ़ने वाले एक छात्र का अपहरण कल करीब 2:15 बजे हो गया था जिसमें अपहरणकर्ताओं ने बच्चे के पिता अजय गुप्ता  को फोन कर दो करोड़ रुपए की फिरौती मांगी लेकिन बच्चे के पिता अजय सीधे दिल्ली पुलिस के पास गए और इस मामले की शिकायत की दिल्ली पुलिस ने इस अपहरण कांड को खोलने में लगा दी।
 साथ ही गाजियाबाद पुलिस को भी इसकी सूचना मिली जिसके बाद गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है जिनमें एक नाबालिक है इन लोगों ने अपहरण करने के बाद मासूम बच्चे को गाजियाबाद के खोड़ा कॉलोनी स्थित एक एक फ्लैट को इन्होंने इसी काम के लिए किराए पर लिया और फिर इस मिलाकर बच्चे को छुपा दिया और और अपहरण कर्ताओं ने कल करीब शाम 4:00 बजे बच्चे के पिता को फोन किया और फिर दो करोड़ की फिरौती मांगी दिल्ली पुलिस और गाजियाबाद पुलिस ने सर्विलांस रिकॉर्ड के आधार पर उसकी लोकेशन ट्रेस की और फिर गाजियाबाद के खोड़ा इलाके में उस की बरामदगी के लग गए लेकिन इस मामले में गाजियाबाद पुलिस को सफलता मिल गयी  गाजियाबाद पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर उस मकान को ट्रेस किया जहां बच्चा छुपा रखा था और वहां से रात करीब 8:00 बजे बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया और 5 लोगों को मौके से गिरफ्तार कर लिया जिनमें एक नाबालिग बताया जा रहा है ।
इस अपहरण कांड के पुरे साजिशकर्ता छात्र के पिता की दुकान पर काम करते थे जिनमें एक राजा नाम का युवक और एक नाबालिक लड़का है कुछ दिन पहले यह लोग छुट्टी लेकर अपने घर चले गए नाबालिग युवक आसाम का रहने वाला है जबकि राजा इलाहाबाद का रहने वाला है इसी बीच छुट्टी के दौरान दोनों ने ज्यादा पैसे कमाने की लालच हुआ और इन्होंने 12 साल के बच्चा जो सातवीं क्लास में पढ़ता है उस के अपहरण की साजिश रच डाली और यह भी तय किया कि दो करोड़ की फिरौती मांगी जाएगी क्योंकि राजा अक्सर बच्चे को स्कूल में लाने और ले जाने का काम भी करता था इसीलिए बच्चा उसके साथ आसानी से चला गया और उन्होंने कल इस वारदात को अंजाम दे दिया लेकिन 12 घंटे के अंतराल में गाजियाबाद पुलिस की सजगता के चलते हुए इस अपहरण कांड का खुलासा हो गया और आरोपी सलाखों के पीछे चले गए
दिल्ली में हुए बच्चे के अपहरण के मामले से एक बार फिर यह साबित हो गया के परिवार का जानकारी बच्चे का दुश्मन बन बैठा वह दो करोड़ की फिरौती के लिए अपने साथियों के साथ मिल इस घटना को अंजाम दिया पुलिस की सजगता के चलते हुए बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया  सवाल फिर वही क्या की दिल्ली-एनसीआर में बच्चों की सुरक्षा को ले करके सवाल खड़े हुए हैं कि किन लोगों पर आखिर विश्वास किया जाए और किन पर नहीं क्योंकि जब भी मासूमों को निशाना बनाया गया तो जानकार ही सामने निकले ।

COMMENTS

%d bloggers like this: