बेजुबान पशुओं के मुंह से निवाला छीनने वाले लालू को जेल

बेजुबान पशुओं के मुंह से निवाला छीनने वाले लालू को जेल

प्रतीक चित्र

दिल्ली। बेजुबान पशुओं के मुंह से निवाला छीनने वाले लालू प्रसाद यादव अब जेल में अपने इस कुकर्म की सजा भुगतेंगे। उन्हें साढ़े तीन साल जेल में काटने होंगे। विदूषक की तरह व्यवहार करने वाले इस राजनेता के लिए अब राजनीति की राहें और भी कठिन हो गई हैं।
     चारा घोटाला मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई है। लालू को यह सजा विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनाई गई। वहीं मामले के अन्य दोषियों फूल चंद, महेश प्रसाद, बेक जूलियस, सुनील कुमार, सुशील कुमार, सुधीर कुमार और राजा राम को भी साढ़े तीन साल की सजा और 5 लाख जुर्माना लगाया गया है। सजा का ऐलान किए जाने के बाद लालू सहित सभी दोषियों को रांची कोर्ट से जमानत भी नहीं मिलेगी बल्कि इसके लिए उन्हें हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ेगा।
   
लालू को सीबीआई कोर्ट से सजा मिलने के बाद कई राजनेताओं की प्रतिक्रियायें सामने आ रही हैं। इसी कड़ी में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और लालू के बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा कि ज्यूडिशिरी ने अपना काम कर दिया। हम सजा को पढ़ने के बाद हाई कोर्ट जाएंगे और बेल के लिए आवेदन देंगे। जेडीयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने कहा कि हम कोर्ट के इस फैसले का स्वागत करते हैं, बिहार की राजनीति में यह ऐतिहासिक फैसला है। साथ ही उन्होंने इसे एक अध्याय का अंत बताया है।
     बताते चलें कि कोर्ट में शुक्रवार को इनकी सजा पर बहस पूरी हुई थी जबकि पांच अन्य की सजा पर बहस एक दिन पहले ही हो गई थी। लालू के वकील चितरंजन प्रसाद ने बताया कि लालू की विशेष सीबीआई जज शिवपाल सिंह की कोर्ट में वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के जरिए बिरसा मुंडा जेल से पेशी कराई गई। गौरतलब है कि इसी जेल में लालू यादव 23 दिसंबर को दोषी करार दिए जाने के बाद से बंद हैं। उन्होंने जज ने अपनी उम्र और बीमारी के चलते सजा में रहम बरतने की अपील की थी।

COMMENTS

%d bloggers like this: