यहां हर तीसरा बंदा बलात्कारी, खुलेआम करता है बलात्कार, फिर भी चुप रहता है कानून..

डीपस्लूट दक्षिण अफ्रीका में जोहानसबर्ग के सबसे खतरनाक इलाकों की सच्चाई...

असल न्यूज़ : दक्षिण अफ्रीका के शहर डीपस्लूट के रहने वाले दो युवाओं ने बीबीसी को बताया कि उन्होंने अबतक कई महिलाओं का बलात्कार किया है. कैमरे के सामने ये कहते वक़्त उनके चेहरे पर एक शिकन तक नहीं थी.

उन्होंने दावा किया कि वो नहीं जानते थे कि वो कुछ गलत कर रहे हैं. उन्होंने कभी खुद को उन बलात्कार पीड़िताओं की जगह रखकर उनकी तकलीफ़ का अंदाज़ा लगाने की कोशिश नहीं की.

वो कैमरे पर अपना चेहरा दिखाने को तैयार थे लेकिन अपने नाम गुप्त रखना चाहते थे. उन्होंने बड़े आराम से अपने अपराधों की कहानियां हमारे सामने रखीं.

उन्होंने बताया, “जैसे ही वो दरवाज़ा खोलतीं, हम उनके घर में घुस जाते और अपना चाकू निकाल लेते. वो चिल्लाती थीं. हम उन्हें चुप हो जाने को कहते. उन्हीं के बिस्तर में ले जाकर हम उनका रेप करते थे.”

दोनों युवकों में से एक दूसरे की ओर मुड़ा और बोला, “यहां तक कि मैंने एक बार इसी के सामने इसकी गर्लफ्रेंड का रेप कर दिया था.”

ये बयान हैरान कर देने वाले हैं, लेकिन डीपस्लूट में ये सब बेहद आम है.

हर तीसरा शख्स रेपिस्ट

इस शहर के तीन में से एक पुरुष ने माना कि उन्होंने कम से कम एक बार बलात्कार किया है. ये संख्या यहां की आबादी की 38 फ़ीसदी है.

ये बात 2016 में किए गए एक सर्वे में सामने आई थी. इस सर्वे के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ विटवॉटर्सरंड ने 2,600 से अधिक आदमियों से बात की थी.

कुछ लोगों ने एक ही महिला का दो बार रेप किया था.

मारिया का उनके ही घर में रेप किया गया था. जिस वक्त उनका रेप हुआ, उनकी बेटी बगल के कमरे में सो रही थी.

“मैं बेटी के ना उठने की प्रार्थना कर रही थी, मुझे डर था कि कहीं वो लोग उसे कुछ नुकसान ना पहुंचाएं.”

उनके रेपिस्ट ने कहा कि वो किसी को मारेंगे नहीं, लेकिन वो जो करना चाहते हैं मारिया उन्हें करने दे.

मारिया बताती हैं, “मैंने कहा तुम्हे मेरे साथ जो करना है कर लो. इसके बाद उसने मेरा रेप किया. वो दूसरी बार मेरा रेप कर रहा था.”

बहुत कम पीड़िताएं अपने रेपिस्ट का विरोध कर पाती हैं. डीपस्लूट में लोगों के मन में ये धारणा है कि बलात्कार अपराध नहीं है.

बहुत कम पीड़िताएं अपने रेपिस्ट का विरोध कर पाती हैं. डीपस्लूट में लोगों के मन में ये धारणा है कि बलात्कार अपराध नहीं है.

बीते तीन सालों में डीपस्लूट में बलात्कार की 500 शिकायतें की गईं, लेकिन किसी भी मामले में कानूनी कार्रवाई नहीं हुई.

रेप के मामले में ही नहीं बल्कि दूसरे अपराधों के मामलों में भी यहां का कानून अपाहिज नज़र आता है.

स्थानीय पत्रकार गोल्डन एमटिका क्राइम रिपोर्टिंग करते हैं. वो कहते हैं, “रात में डीपस्लूट की सड़कों पर निकलना बेहद खतरनाक है. कुछ बुरा होने पर मदद मिलना मुश्किल होता है.”

 

 

COMMENTS

%d bloggers like this: