अगर आप भी करते हैं स्मार्टफोन बैटरी चार्जिंग से जुड़ी ये गलतियां तो तुरंत करें बंद, जानें कारण

असल न्यूज : स्मार्टफोन का एक मुख्य हिस्सा बैटरी है। स्मार्टफोन बैटरी को लेकर कई मिथक हैं जिसमें से कुछ गलत हैं और कुछ सही। उदाहरण के तौर पर: कई लोग कहते हैं कि फोन को पूरी रात चार्जिंग पर लगाकर नहीं छोड़ना चाहिए। इससे फोन ब्लास्ट भी हो सकता है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि बैटरी से जुड़ी जितनी सही गलत अफवाहें उनमें से कितनी सही हैं। अगर नहीं, तो इस पोस्ट में हम आपको बैटरी से जुड़े उन सवालों के जवाब देने जा रहे हैं जिनपर बहस छिड़ी हुई हैं।

1. क्या ओवरचार्जिंग से फोन ब्लास्ट हो सकता है?

नहीं। फोन को ओवरचार्ज करने से बैटरी को कोई नुकसान नहीं पहुंचता है लेकिन इससे बचना ही बेहतर है। स्मार्टफोन्स को स्मार्ट फोन ही क्यों कहा जाता है। क्योंकि फोन को अच्छे से पता होता है कि बैटरी कब 100 फीसद चार्ज हो चुकी है। बैटरी के पूरा यानी 100 फीसद चार्ज हो जाने के बाद फोन अपने आप ही चार्जिंग लेना बंद कर देता है। इसमें एक चिप इंटीग्रेट होती है जो फोन को ओवरचार्ज होने से बचाती है। तो अगर आप अपना फोन पूरी रात चार्जिंग पर छोड़ते हैं तो इससे आपका फोन हीट हो जाता है और बैटरी की लाइफ कम हो जाती है। ऐसे में फोन को ओवरचार्ज करने से बचें।

2. क्या बैटरी को कम तापमान में चार्ज न करना सही है?

नहीं। बैटरी को कभी भी कम तापमान या ठंडी जगह पर चार्ज नहीं करना चाहिए। बैटरीयूनिवर्सिटी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, लिथियम-आयन बैटरीज को 32 डिग्री फैरनहाइट से कम पर कभी चार्ज नहीं करना चाहिए। फोन को बार-बार कम तापमान में चार्ज करने से एनोड (बैटरी का एक पार्ट) पर लिथियम आयन की एक परमानेंट लेयर बन जाती है जिसे हटाया नहीं जा सकता है। इससे फोन की लाइफ कम हो जाती है।

3. क्या फोन को 0 फीसद होने पर चार्ज करना चाहिए?

एक ऐसा मिथक भी है कि फोन को तभी चार्ज करना चाहिए जब फोन की बैटरी पूरी तरह खत्म हो गई हो। लेकिन फोन को पूरी तरह डिस्चार्ज होने के बाद चार्ज करना फोन की बैटरी को खराब करता है। उदाहरण के तौर पर: लिथियम आयन बैटरीज को अगर 0 फीसद ड्रेन कर चार्ज किया जाए तो उसे वापस चार्ज होने में समय लगता है। ऐसे में अगर आप अपने फोन को 30 से 40 फीसद बैटरी पर चार्जिंग में लगा देंगे तो बेहतर होगा।

COMMENTS

%d bloggers like this: