जल्दी अमीर बनना चाहते हैं तो, छोड़ दें आज ही इसे !

आचार्य चाणक्य को भारत के इतिहास में एक ऐसा अनूठा व्यक्तित्व कहा जा सकता है

असल न्यूज़ : आचार्य चाणक्य को भारत के इतिहास में एक ऐसा अनूठा व्यक्तित्व कहा जा सकता है जिसने हर असंभव कर्यों को संभव कर दिखाया। आचार्य चाणक्य ने जटिल और गूढ़ राजनीति को सरल करके समझाया। इन्सान के काम आने वाली बातों को बहुत ही सरलता से सूत्रों के रूप में प्रस्तुत किया। आचार्य चाणक्य ने बहुत जल्द सफल और अमीर बनने के लिए एक महत्वपूर्ण बात बताई है।

राजनीति में कुछ पाने के लिए एक राजा को कभी-कभी कुछ अप्रिय कार्य भी करने पड़ते हैं परंतु उससे न तो प्रजा को कोई कष्ट होता है और न ही राजा को। वहां उसका धर्म प्रजा की भलाई के लिए अपने राज्य की रक्षा करना होता है। जैसे बछड़े के प्रहार से गाय को अपने थनों पर दर्द नहीं होता, बल्कि आंनद प्राप्त है।

जीवन में दोस्तों का होना बहुत जरूरी है। सच्चा मित्र वही है जो अपने दोस्त को गलत मार्ग में जाने से रोके, जरुरत के समय उसकी मदद करे, लेकिन कौन हमारा मित्र हो सकता है अौर कौन नहीं, यह सब हम पर ही निर्भर करता है।

आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में बहुत कुछ बताया है कि जिस से हमें भविष्य के कष्टों से बचने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और कौन-कौन सी बातें इंसान को दुख प्रदान कर सकती हैं। एक नीति में इन्होंने बताया है कि जीवन में कभी-कभी कठोर-कठिन निर्णय लेने जरूरी होते हैं।
आचार्य चाणक्य कहते हैं कि हे मनुष्य यदि तू किसी एक ही कर्म द्वारा अनंत ऐश्वर्य प्राप्त कर सारे संसार को अपने वश में करना चाहता है तो तू सबसे पहले दूसरों की निन्दा करने वाली अपनी वाणी को वश में कर लें आर्थात् दूसरों की निंदा करना छोड़ दें।

आचार्य चाणक्य का भाव यह है कि जो व्यक्ति अपने जीवन में बहुत आगे बढ़ना चाहता है, खूब धन कमाना चाहता है और सुखपूर्वक जीवन बिताना चाहता है उसे सबसे पहले दूसरों की निंदा करना छोड़ना होगा। अक्सर हम अपना अमूल्य समय दूसरों की निंदा करने में गवां देते है। जो लोग दूसरों की बुराई करने में अपना समय बर्बाद करते हैं वे अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए समय कहां से निकालेंगे। इसलिए सभी सफल और अमीर लोग दूसरों की बुराई करना छोड़ कर अपने काम पर ही फोकस करते हैं।

COMMENTS

%d bloggers like this: