भारतीय किसान संघ ने 10 सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन

भारतीय किसान संघ ने 10 सूत्रीय मांगों का सौंपा ज्ञापन

छतरपुर : भारतीय किसान संघ के तत्वाधान में मुख्यमंत्री के नाम जिला छतरपुर को सूखाग्रस्त घोषित करने सहित 10 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर के माध्यम से सौंपा। हजारों किसानों की उपस्थिति में किसान संघ ने मोटेके महावीर में आमसभा उपरांत शहर में रैली निकालकर विरोध जताया। मुख्य अतिथि प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रामाधर, विशिष्ट अतिथि भालचंद्र नातू संघ विभाग संचाल, अध्यक्षता केपी सिंह राजावत जिला अध्यक्ष भारतीय किसान संघ, ब्रजेश बिल्थरे ने उद्बोधन दिया।

किसान संघ के जिला उपाध्यक्ष माधव मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि छतरपुर बुन्देलखण्ड क्षेत्र का सबसे पिछड़ा एवं उद्योग विहीन जिला है। सभी वर्ग कृषि पर आश्रित है इसके बावजूद छतरपुर को सूखाग्रस्त घोषित नहीं किया गया जबकि मुख्यमंत्री ने इसी जिले से मुख्यमंत्री के पद तक उपलब्धि हासिल की है। सूखे की मार से किसान प्रभावित है और शत प्रतिशत किसान एवं मजदूर अपने परिवार सहित पलायन को बाध्य हो रहे है। इसका जीता जागता सबूत जा रही बसों एवं ट्रेनों में देखने को मिल रहा है। समस्त किसानों की मांग है कि छतरपुर जिला को सूखा घोषित किया जाना मानवीय दृष्टिकोण से उचित है। शासन 15 दिवस तक छतरपुर जिला को सूखा घोषित नहीं करता है तो किसान क्रमिक रूप से भूख हड़ताल करने को बाध्य होंगे। ज्ञापन में मप्र शासन की पक्षपातपूर्ण नीति छतरपुर जिला को सूखा घोषित किया जाए, शासन की नीति बिना कराए मुआवजा तत्काल प्रदान कराया जाने सहित 10 सूत्रीय मांगें शामिल है। समाजसेवी एडवोकेट ब्रजेश बिल्थरे ने ज्ञापन का वाचन कर भारतीय किसान संघ ने डिप्टी कलेक्टर रविंद्र चौकसे को कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। डिप्टी कलेक्टर रविन्द्र चौकसे ने ज्ञापन लेते हुये सर्वे कराकर मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष माधव मिश्रा, जिला महामंत्री पुष्पेंद्र प्रताप सिंह, विवके जैन, ब्लाक अध्यक्ष बकस्वाहा, अखिलेश बिल्थरे, राजा जयपाल सिंह, गोविंद पटेल, रगवर यादव, हल्के पाल सहित समस्त ब्लाक अध्यक्ष, किसान संघ के समस्त पदाधिकारी एवं हजारों किसान उपस्थित रहे।

COMMENTS

%d bloggers like this: