उपराज्यपाल अनिल बैजल ने कानून व्यवस्था को लेकर बैठक की

दिल्ली।। उपराज्यपाल अनिल बैजल ने आज कानून व्यवस्था की बैठक में बीट व्यवस्था की वर्तमान स्थिति की समीक्षा की। इसके साथ-साथ उसे सशक्त बनाने के प्रस्तावित उपाय और क्षेत्र में उनकी उपस्थिति,विभिन्न रैंक के बीट अधिकारियों को सशक्त एवं उन्हें बहुउद्देशीय बनाने आदि की भी समीक्षा की गई। इस बैठक में प्रधान सचिव, (गृह), पुलिस आयुक्त, दिल्ली ,विशेष आयुक्त एवं संयुक्त आयुक्त उपस्थित थे।

दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में एक विस्तृत प्रजेटेशन प्रस्तुत किया। उपराज्यपाल महोदय को बताया गया कि दिल्लीवासियों की सुरक्षा के लिए दिल्ली के 163 थानों में 8000 पुलिसकर्मी जिनमें 700 महिला पुलिसकर्मियों को
बीट अधिकारी के रूप में तैनात किया गया है। आगे यह भी बताया गया कि बीट अधिकारियों की नागरिकों को सेवा
मुहैया कराने के साथ-साथ उनके मध्य सुरक्षा की भावना को बढ़ानें, कानून व्यवस्था को सुधारने, सूचनाएं एकत्रित
करने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।

  उपराज्यपाल: बीट अधिकारियों को आधुनिकतम तकनीक से सशक्त बनाने पर ध्यान दें.

उपराज्यपाल महोदय को दिल्ली पुलिस द्वारा बीट सिस्टम को मजबूत करने हेतु उठाए गए विभिन्न कदमों
जैसे पैदल एवं साईकिल द्वारा गश्त, वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा अपने बीट स्टाफ को नियमित रुप से ब्रीफिंग देने
और क्षेत्रों में मौजूदगी बढ़ाने हेतु मोटर साईकिल द्वारा गश्त आदि के बारे में बताया गया।

उपराज्यपाल महोदय ने पूर्वी दिल्ली में दिल्ली पुलिस द्वारा हाल ही में की गई पहल को प्रोत्साहित किया जिसमें संबंधित उपायुक्त ने पुलिस स्टेशन से बाहर अपने कर्मचारियों को संबोधित किया और उपराज्यपाल महोदय ने कहा कि अन्य जिलों में भी इसकी शुरूआत की जाए। उन्होंने बीट अधिकारियों द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के घरों पर नियमित दौरा करने की प्रक्रिया की सराहना की क्योंकि यह उनमें सुरक्षा की भावना मजबूत करती है।

यह भी बताया गया कि निजी सुरक्षा कर्मियों की पुलिस के साथ सहयोग समाज की सुरक्षा के लिए अत्यंत आवश्यक है। इसके अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों की उचित कार्यशैली को सुनिश्चित करने के लिए इन सुरक्षा एजेंसियों की निष्पक्ष जांच प्राथमिकता के आधार पर की जाए।

उपराज्यपाल महोदय ने सुझाव दिया कि बीट स्टाफ की तकनीकी दक्षता को बढ़ाने के लिए उचित कदम उठाए जाएं ताकि वह आधुनिकतम तकनीक का प्रयोग कर सके और बहुमुखी बनकर भविष्य में आने वाली चुनौतियों का सामना कर सकें।

 उपराज्यपाल: बीट पुलिस अधिकारियों की मौजूदगी को बढाने एवं उन्हें बहुमुखी बनाया जाए.

अंत में उपराज्यपाल महोदय ने सुझाव दिया कि कर्मचारियों को प्रदर्शन और गैर-प्रदर्शन के अनुसार क्रमशः
प्रोत्साहित और निरात्साहित करने की प्रणाली शुरू करने की सलाह दी जाए ताकि कर्मचारियों को अपने कर्तव्यों को
प्रभावी ढंग से निर्वहन करने के लिए प्रेरित किया जा सके।

COMMENTS

%d bloggers like this: