भगवान बाहुबली का महामस्ताभिषेक शुरू, 12 साल में एक बार होता है यह आयोजन !

17 फरवरी से 26 फरवरी तक चलने वाले इस महामस्तकाभिषेक..

असल न्यूज़: (श्रवणबेलगोला, कनार्टक) कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से लगभग 150 किमी दूर श्रवणबेलगोला में लाखों लोगों की मौजूदगी में भगवान बाहुबली का पहला महामस्तकाभिषेक हुआ। 12 वर्ष पर होने वाले इस महा-आयोजन का इंतजार सभी जैन धर्मावलंबियों को रहता है।

17 फरवरी (शनिवार) से शुरू हुए महामस्तकाभिषेक में सबसे पहले जल से अभिषेक किया गया। इसके बाद नारियल पानी से, फिर चावल के आटे, हल्दी आदि से अभिषेक किया गया। सबसे आखिर में पुष्पों की वर्षा की गई। अभिषेक के लिए जर्मन तकनीक पर आधारित 12 करोड़ रुपये से बने मंच पर 5000 भक्त मौजूद थे। 7 फरवरी को देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने इस उत्सव का उद्घाटन किया था, जबकि 19 फरवरी को इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हिस्सा लेंगे। इसके अलावा कई अन्य नेताओं के भी भाग लेने की संभावना है। 108 कलशों से अभिषेक के समय 800 जैन मुनियों और साध्वियों की उपस्थिति खास रही। श्रवणबेलगोला मठ के स्वामी चारुकीर्ति भट्टारक ने सभी मुनि और साध्वियों का सादर अभिनंदन किया।

आस्था के साथ टूरिज्म भी
लाखों की संख्या में आने वाले लोगों के लिए यहां अभिषेक के अलावा भी व्यवस्था है। लोगों की तफरी के लिए तीन हेलिपैड बनाए गए हैं जहां 2100 रुपये देकर आप 10 मिनट की हेलिकॉप्टर से यात्रा कर सकते हैं। इनके अलावा एक दिन के लिए 150 रुपये देकर बाइक किराए पर भी ले सकते हैं। वाटर स्पोर्ट्स की भी व्यवस्था है।

यह है इंतजाम
17 फरवरी से 26 फरवरी तक चलने वाले इस महामस्तकाभिषेक के लिए 12 नगर बनाए गए हैं, जहां हर दिन 26 हज़ार लोगों के रहने की व्यवस्था की गई है। हर नगर में भोजनालय, हेल्थ, फायर आदि के इंतज़ाम किए गए हैं। इन नौ दिनों के दौरान 40 लाख लोगों के भाग लेने का अनुमान है। हर रोज़ करीब एक लाख लोगों के खाने का भी इंतज़ाम महाभोजनालयों में किया गया है। आयोजन स्थल तक पहुंचने के लिए 23 स्पेशल ट्रेनें चलाई गई हैं।

अभिषेक का सबसे पहला मौका आरके मार्बल के ऑनर अशोक पाटनी और उनके परिवार को मिला। पाटनी ने श्रवणबेलगोला में अस्पताल के लिए 11 करोड़ 11 लाख रुपये की सहयोग राशि दी है। इस रकम की मदद से अस्पताल में 200 बेड की अतिरिक्त व्यवस्था की जाएगी।

COMMENTS

%d bloggers like this: