मां दुर्गा

तारकेश कुमार ओझा।। ढाक भी वही सौगात भी वही पर वो बात कहां जो बचपन में थी ठेले भी वही , मेले भी वही मगर वो बात कहां जो बचपन में थी ऊंचे से और ऊंचे तो भव्य से और भव्य होते गए।

मां दुर्गा के पूजा पंडाल लेकिन परिक्रमा में वो बात कहां जो बचपन में थी हर कदम पर सजा है बाजार मगर वो रौनक कहां जो बचपन में थी। नए कपड़े तो हैं अब भी मगर पहनने को वो सुख  कहां जो बचपन में थी।

भरी जेब के साथ पंडालों में घूमा बहुत लेकिन वो खुशी मिली नहीं जो खाली जेब में भी बचपन में थी समय के साथ बदल गया बहुत कुछ न बदला तो मां दुर्गा का ममतामय रूप माता भवानी से है बस चाह इतनी बुलंद रहे भारत।

youtube चैनल asalnews को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं!

youtube चैनल Googel News को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं!

youtube चैनल असल आस्था को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं!

आप किसी भी राज्य से हमें खबरें भेज सकते हैं खबरें भेजने के लिए हमारी ईमेल ID mail@asalnews.com पर खबरें मेल करें!

आप किसी भी राज्य से असल न्यूज़ के साथ काम करना चाहते हैं तो अपना CV हमारी ईमेल ID mail@asalnews.com  मेल करें!

आधार कार्ड की कॉपी ,पैन कार्ड की कॉपी, हमें मेल करें अधिक जानकारी के लिए हमारे मोबाइल नंबर:- 9891862889,9811498341 पर संपर्क करें!

 

 

COMMENTS

%d bloggers like this: