जाधव की परिवार से मुलाकात में पाक ने बनाई शीशे की दीवार

दिल्ली। पाकिस्तानी हुकमरान अपनी घिनौनी चालबाजियों से बाज नहीं आए। भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी जाधव से उनकी मां और पत्नी की मुलाकात करवाने में भी उन्होनें भद्दा खेल खेला। मुलाकात के दौरान उन्होनें भारतीय दूतावास के अधिकारियों को अंदर ही नही जाने दिया और जाधव तथा उसके परिवार के बीच शीशे की दीवार खड़ी कर दी।
कुलभूषण जाधव के गले और पाकिस्तानी फांसी के फंदे के बीच शीशे की दीवार रुकावट बनेगी या नहीं ये तो पता नहीं लेकिन 21 महीने बाद जब जाधव अपनी मां और पत्नी से मिले तो उनके बीच ये शीशे की दीवार थी। पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय नौसेना के पूर्व अफसर कुलभूषण जाधव की उनके परिवार से मुलाकात तो जरूर हो गई है लेकिन इस मुलाकात के बाद कई सवालिया निशान उठ रहे हैं। पहले तो पाकिस्तान ने जाधव की मां और पत्नी से जो मुलाकात कराई उसमें शीशे की दीवार की पहरेदारी थी। दूसरा पाकिस्तान ने इस मुलाकात के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें उसने जाधव के खिलाफ पुराने सभी आरोपों को दोहराया है।
पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय की ओर से दिए गए बयान में कहा गया है कि कुलभूषण जाधव ने एसएसपी असलम चैधरी की हत्या की बात कबूली है। इसके साथ ही वो टीटीपी के साथ अन्य संगठनों का समर्थन करता है। पाक ने कहा है कि जाधव ने ये सभी काम रॉ की जानकारी में किए हैं।
तो वहीं परिवार से मुलाकात के बाद पाकिस्तान ने एक जाधव का एक वीडियो जारी किया है। हालांकि इस वीडियो की रिकॉर्डिंग इस मुलाकात के पहले ही कर ली गई थी। इस वीडियो में जाधव परिजनों से मुलाकात कराने के लिए पाकिस्तानी सरकार को शुक्रिया कहते दिखाई दे रहे हैं।
सोमवार को पाकिस्तान ने जिस तरह से कुलभूषण और उनके परिजनों की मुलाकात कराई, उसपर आपत्तियां खड़ी हो रही हैं। पाकिस्तानी जेल में बंद जाधव को इस मुलाकात के दौरान एक शीशे की दीवार के पीछे रखा गया था। जाधव की मां और पत्नी केवल उनको देख पा रही थीं। बात करने के लिए इंटरकॉम का सहारा लिया गया था। सोशल मीडिया पर मौजूद अंतरराष्ट्रीय बिरादरी के सामने पाकिस्तान की अभी भद्द पिट ही रही थी कि एक नया वीडियो सामने आ गया।
उधर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह मानवीय आधार पर हुई मुलाकात थी, यह राजनयिक पहुंच नहीं थी। मुलाकात के दौरान भारतीय राजनयिक जे.पी. सिंह भी मौजूद थे लेकिन उन्हें कुलभूषण से मिलने की अनुमति नहीं दी गई। जाधव के अनुरोध पर हमने मुलाकात को 10 मिनट के लिए बढ़ा दिया था।
मुलाकात पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने सफाई देते हुए कहा है कि यह (शीशे की दीवार) सुरक्षा कारणों से थी, हमने उन्हें पहले ही बता दिया था कि आप उनसे (कुलभूषण से) मिल सकते हैं लेकिन मुलाकात के दौरान सिक्योरिटी बैरियर होगा।

COMMENTS

%d bloggers like this: