आतंकवाद के खिलाफ पाक ने उठाया बड़ा कदम, 72 प्रतिबंधित संगठनों को किया ब्लैकलिस्टेड, अब इन्हें फंड देने वालों की नहीं है खैर

आतंकवाद के खिलाफ पाक ने उठाया बड़ा कदम, 72 प्रतिबंधित संगठनों को किया ब्लैकलिस्टेड, अब इन्हें फंड देने वालों की नहीं है खैर

इस्लामाबाद : पूरी दुनिया में टेररिस्तान के नाम से जाने जाना वाला देश भारत का पड़ोसी पाकिस्तान अपनी छवि सुधारने में लगा है। इसलिए पाकिस्तान ने आतंकवादी संगठनों पर लगाम लगाने के लिए बड़ा कदम उठाया है। पाकिस्तान ने ऐलान किया है कि वो मुंबई हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा (जेयूडी) सरगना हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन सहित 72 प्रतिबंधित संगठनों को ब्लैकलिस्टेड कर दिया है।

यह चेतावनी उर्दू में देशभर में विज्ञापन के तहत दी गई है

इतना ही नहीं पाकिस्तान ने ये भी ऐलान किया है कि वो प्रतिबंधित संगठनों को धन मुहैया कराने वालों को भारी जुर्माने के साथ दस साल तक की जेल की सजा होगी। यह चेतावनी उर्दू में देशभर में विज्ञापन के तहत दी गई है। यह विज्ञापन देश के सभी प्रमुख स्थानीय अखबारों में छपे हैं।

पाकिस्तान गृह मंत्रालय ने एक प्रेस रिलीज जारी की है, जिसमें यह बताया गया है कि सरकार ने कुल 72 प्रतिबंधित संगठनों को इस सूची में डाला है। एक्सप्रेस ट्रिब्यून की एक रिपोर्ट के मुताबिक जिन संगठनों को ब्लैकलिस्ट किया गया है उन्हें किसी भी प्रकार की मदद दी जाती है तो यह अपराध की श्रेणी में आएगा। इतना ही नहीं उसके बाद कानून के अनुसार कार्रवाई भी की जाएगी।

पाकिस्तान ने कहा कि प्रतिबंधित समूहों को जो कोई भी फंड मुहैया कराएगा, जिसमें मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के द्वारा चलाया जा रहा चैरिटी भी शामिल है, को भारी जुर्माने के साथ 10 साल के कैद की सजा दी जाएगी। पाकिस्तान ने यह कार्रवाई ऐसे वक्त में की जबकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने हाल ही में पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उसने अमेरिका को ‘झूठ और धोखा’ तथा आतंकवादियों को ‘सुरक्षित पनाहगाह’ मुहैया कराने के अलावा कुछ भी नहीं दिया।

बौखलाए हाफिज ने रक्षा मंत्री को भेजा नोटिस

पाकिस्तान के इस ऐलान के बाद हाफिज सईद ने पाकिस्‍तान के रक्षा मंत्री पर मानहानि का कानूनी नोटिस जारी किया था। इस नोटिस में कहा गया था, ‘आपको (मंत्री खुर्रम दस्तगीर) मेरे क्‍लाइंट (सईद) को 14 दिनों के भीतर लिखित माफी भेजनी होगी और भविष्य में सावधानी बरतने का वादा करना होगा कि आगे से आप ऐसा कुछ नहीं कहेंगे। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो पाकिस्‍तान दंड संहिता की धारा 500 के तहत आपराधिक मुकदमे में 2 साल तक की सजा हो सकती है।’

COMMENTS

%d bloggers like this: