लडकी के हौसले बुंलद,सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने की तयारी

हरियाणा।।(प्रवीण कुमार )हिसार अगर लडकी के हौसले बुंलद हो तो वह कुछ भी कार्य कर सकता है और जो लडकी अपनी मंजिल का रास्ता चुन लेती है और अपने लक्ष्य से पीछे नही हटती तो  कामयबी उसके कदम जरुरत चुमती है ऐसा ही हिसार रहने वाली शिवानी पाठक ने माऊटेंन पर चढने का लक्ष्य बनाया है। शिवानी पाठक ने 5 अप्रैल से नेपाल में पर्वता रोही की शुरु वात करेगी वह उन पहाडों की उचाई को छू कर भारत लौट कर अपने देश का नाम रोशन करना चाहता है।

शिवानी ने हिसार में बताया कि उनसे अरनीमा सीमा व अतीता कूंडू को देखकर नेपाल  के एरवरेस्ट पर चढने का लक्षय बनाया है उसमें हौसला जज्बा व ताकत की कोई कमी है।: ग्लोबल स्पेस हिसार निवासी 16 वर्षीय शिवांगी पाठक आगामी 5 अप्रैल को काठमांडु नेपाल से दुनिया की सबसे ऊंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने के लिए चढ़ाई शुरू करेंगी। इससे पूर्व एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए शिवांगी व उसके परिजनों ने जानकारी दी कि जब शिवांगी 10 वर्ष की थी तो उसने एक वीडियो देखी थी जिससे प्रभावित होगी शिवांगी ने कुछ ऐसा कार्य करने की ठान ली जो सबसे अलग हो।

इसी सोच के साथ उसने मेहनत व लगन के साथ पर्वतारोहण का प्रशिक्षण शुरू कर दिया। इस दौरान उसने केदारनाथ, बद्रीनाथ आदि सहित कई कठिन पहाडिय़ों पर चढ़ाई की। शिवांगी को ट्रैकिंग के दौरान सबसे अधिक समस्या अपने अधिक वजन को लेकर आ रही थी जिसके लिए भी उसने कड़ी मेहनत कर व रिंकु पानू से प्रशिक्षण लेकर अपना वजन घटाया। अल्फा ग्रेड लेह लद्दाख 6053 मीटर की चढ़ाई पार करने के बाद अब शिवांगी ने माउंट एवरेस्ट को फतेह करने का संकल्प लिया है। एवरेस्ट पर चढ़ाई से पूर्व 4 तरह की प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है जिसे भी शिवांगी ने पूरा कर लिया है तथा नेपाल की 7 शिमटी एजेंसी ने उन्हें चढ़ाई की अनुमति प्रदान कर दी है। माउंट एवरेट पर चढ़ाई का खर्च लगभग 35 लाख रुपये का है।

बेटी की इच्छा को देखते हुए परिजनों को इसकी चिंता सताने लगी क्योंकि इतना खर्च उठा पाना उनके सामथ्र्य से बाहर था। इसके लिए उन्होंने कई संस्थाओं से मदद की अपील भी की पर शिवांगी का विश्वास दृढ़ था और उन्होंने कहा कि वह ईश्वर की कृपा से एवरेस्ट की चढ़ाई जरूर पूरी करेगी। कुछ दिन पूर्व वे एक समारोह में गए हुए थे जहां उनकी मुलाकात वन पैलेस ग्रुप के चेयरमैन रण सिंह से हुई जब उन्हें शिवांगी की प्रोफाइल दिखाई तो वे इससे बहुत प्रभावित हुए और शिवांगी का एवरेस्ट चढ़ाई का पूरा खर्च स्वयं वहन करने का जिम्मा लिया। इसके लिए शिवांगी व उसके परिजनों ने चेयरमैन रण सिंह का हार्दिक आभार जताया।

परिजनों ने बताया कि शिवांगी के जन्म पर उस समय कुछ महिलाओं ने लडक़ी के जन्म का काफी अफसोस जाहिर किया था लेकिन अब वही शिवांगी उनका नाम रोशन कर रही है। इसके साथ ही परिजनों ने बताया कि लडक़ी के मामा अमित मुंजाल व अनिल चौधरी ने शिवांगी को प्रोत्साहित किया व उसकी हर संभव सहायता भी की।

उन्होंने बताया कि शिवांगी 1 अप्रैल को दिल्ली से नेपाल के लिए फ्लाईट से रवाना हो जाएंगी और 5 अप्रैल को वह अपनी चढ़ाई शुरू करेंगी। जिस लडक़ी को उसके माता-पिता अकेले बाहर भेजने में भी संकोच करते थे आज वही लडक़ी दुर्गम पहाड़ी इलकों में अकेली ट्रैकिंग के लिए जाती है। शिवांगी ने बताया कि वह अनिता कुण्डू को अपना प्रेरणा स्त्रोत मानती है और उन्हीं से प्रेरणा पाकर उन्होंने माउंट एवरेस्ट फतेह करने का निर्णय लिया है।

COMMENTS

%d bloggers like this: