देशभर में बड़ी Bitachine एक्सचेंजों पर आईटी विभाग की छापेमारी

दिल्ली। आयकर विभाग ने आज देशभर में बड़े बिटकॉइन एक्सचेंजों पर छापेमारी की है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कथित रूप से कर चोरी के मामले में यह कार्रवाई की गई। आयकर विभाग की बेंगलुरु की जांच इकाई की अगुवाई में विभाग की विभिन्न टीमों ने दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद, कोच्चि और गुरुग्राम सहित नौ एक्सचेंज परिसरों में सर्वे का काम किया। यह देश में बिटकॉइन के खिलाफ पहली बड़ी कार्रवाई है।
     यह कार्रवाई आयकर विभाग की धारा 133ए के तहत की गई। इस धारा के तहत कार्रवाई का मकसद निवेशकों और व्यापारियों की पहचान के लिए प्रमाण जुटाना, उनके द्वारा किए गए सौदे, दूसरे पक्षों की पहचान, इस्तेमाल किए गए बैंक खातों आदि का पता लगाना होता है। सूत्रों ने बताया कि छापेमारी करने वाली टीमों के पास इन एक्सचेंजों के बारे में विभिन्न प्रकार के वित्तीय आंकड़े और अन्य ब्योरे थे।
क्या है बिटकॉइन
बिटकॉइन वर्चुअल करेंसी हैं इसे क्रिप्टो करेंसी भी कहा जाता है। यह अन्य मुद्राओं की तरह जैसे डॉलर, रुपए या पॉन्ड की तरह भी इस्तेमाल की जा सकती है। ऑनलाइन पेमेंट के अलावा इसको डॉलर और अन्य मुद्राओं में भी एक्सचेंज किया जा सकता है। यह करेंसी बिटकॉइन के रूप में साल 2009 में चलन में आई थी। आज इसका इस्तेमाल ग्लोबल पेमेंट के लिए किया जा रहा है। बिटकाइन की खरीद और बिक्री के लिए एक्सचेंज भी हैं। दुनियाभर के बडी बिजनेसमैन और कई बड़ी कंपनियां वित्तीय लेनदेन के लिए इसका इस्तेमाल खूब कर रही हैं। बता दें कि वर्चुअल करेंसी बिटकॉइन तेजी के नए रिकॉर्ड लगातार बनाती जा रही है। सोमवार को बिटकॉइन ने डेरिवेटिव ट्रेड में 18,000 डॉलर के स्तर को पार किया था और जानकार मान रहे हैं कि जल्दी ही यह 20,000 डॉलर की ऊंचाई को पार कर लेगा।
रिजर्व बैंक पहले ही चेतावनी दे चुका है, एसोचैम भी खिलाफ

बिटकॉइन में निवेश को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक पहले ही आगाह कर चुका है, अब देश में इंडस्ट्री ने भी बिटकॉइन के खिलाफ आवाज उठाई है। मंगलवार को उद्योग संगठन एसोचैम ने सरकार से मांग की है कि बिटकॉइन को या तो तुरंत प्रभाव से बंद कर दिया जाए या फिर इसे रेग्युलेट किया जाए।

COMMENTS

%d bloggers like this: