चलती बस में छात्रा के सामने अश्लील हरकत करने वाले व्यक्ति पर 25 हजार रुपये का इनाम

दिल्ली|| दिल्ली पुलिस ने चलती बस में दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा के बगल में बैठकर मस्टरबेट करने वाले व्यक्ति पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है. दिल्ली पुलिस ने इस संबंध में एक पोस्टर भी जारी किया है.

दिल्ली पुलिस के इस पोस्टर में कहा है कि आरोपी व्यक्ति के बारे में सूचना देने वाले व्यक्ति को 25 हजार रुपये नकद इनाम दिया जाएगा. साथ ही सूचना देने वाले व्यक्ति की पहचान भी गोपनीय रखी जाएगी.

छात्रा ने आरोपी व्यक्ति को अश्लील हरकत करते हुए उसकी वीडियो बना ली थी और अपने ट्विटर हैंडल से शेयर कर उसने बस के अंदर अपने साथ हुई गंदी हरकत के बारे में खुलासा किया था.
पीड़िता का आरोप है कि बीते 10 फरवरी को 6 घंटे इंतजार के बाद वसंत विहार थाने में आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया गया, लेकिन कोई गिरफ्तार नहीं हुआ है. तब से आरोपी भी फरार चल रहा है.
दिल्ली पुलिस, पुलिस आयुक्त, मुख्यमंत्री, महिला आयोग आदि को ट्विटर पर टैग करते हुए पीड़िता ने ट्वीट भी किया, लेकिन महिला आयोग के अलावा किसी ने मदद नहीं की.

यह थी पूरी घटना

पीड़िता दिल्ली यूनिवर्सिटी में तीसरे वर्ष की छात्रा है. इस घटना के समय वह कॉलेज से घर लौट रही थी. आरोपी आईआईटी गेट बस स्टैंड पर उतर गया था. छात्रा का आरोप है कि आरोपी ने उसके निजी अंग को भी छुआ था.

पीड़िता ने बताया कि वह हर दिन की तरह बीते 7 फरवरी को वसंत गांव से कलस्टर बस रूट नंबर 774 में सवार हुई थी. छात्रा अगले गेट से सवार हुई और दूसरे नंबर की सीट पर बैठ गई. 45 साल का एक व्यक्ति उस सीट पर बगल में बैठ गया.
चंद मिनट बाद वह उसके निजी अंग को छूने लगा. उसके सामने ही मस्टरबेट करने लगा.

किसी ने नहीं की मदद

हैरानी की बात यह है कि छात्रा बस में आरोपी के ऐसा करने का विरोध करती रही और अन्य यात्रियों से मदद की गुहार लगाती रही, लेकिन कोई आगे नहीं आया. उसने चिल्लाकर अन्य यात्रियों से मदद की गुहार भी लगाई थी, लेकिन किसी यात्री ने सहायता नहीं की.

बहादुर छात्रा ने आरोपी की अश्लील हरकत को अपने मोबाइल से रिकॉर्ड कर लिया. इतना ही नहीं उसने इस वीडियो को ट्विटर पर भी अपलोड कर दिया. इसके बाद उसने इस घटना की जानकारी अपने दोस्तों को दी.

हैरानी की बात यह है कि इस वीडियो को दिल्ली के मुख्यमंत्री कार्यालय, दिल्ली पुलिस, पुलिस आयुक्त, महिला आयोग को ट्विटर पर टैग किया गया था, लेकिन महिला आयोग के अलावा किसी अन्य ने पीड़िता से तीन दिनों तक संपर्क नहीं किया. महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद वसंत विहार थाना में इस बाबत केस दर्ज हुआ है.

COMMENTS

%d bloggers like this: