बहुत खतरनाक है mobile में अडल्ट साइट देखना, कारण जानकर आप इन्हें देखना छोड़ देंगे !

इंटरनेट की आसान मौजूदगी ने अडल्ट साइट को दुनिया में जमकर बढ़ावा दिया है !

असल न्यूज़ : स्मार्टफोन और इंटरनेट की आसान मौजूदगी ने अडल्ट साइट को दुनिया में जमकर बढ़ावा दिया है. आज साइबर सुरक्षा इतनी कमज़ोर है कि कोई भी कहीं भी इंटरनेट की मदद से अडल्ट साइट देख सकता है. इस कारण कई समस्याएं खड़ी हो रही हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि स्मार्टफोन पर ऐसा कंटेंट देखना आपके लिए कितना ख़तरनाक साबित हो सकता है? यदि आप नहीं जानते तो जान लीजिए हाल ही में साइबर सिक्योरिटी पर आई इस रिपोर्ट के बारे में.

रूसी साइबर सिक्योरिटी कंपनी Kaspersky Lab के मुताबिक दुनिया में 12 लाख से ज़्यादा एंड्रॉयड स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वाले यूजर्स मैलवेयर वायरस से प्रभावित हुए हैं. जबकि बीते साल 2017 की बात करें तो सिर्फ आपत्तिजनक कंटेंट देखने के चलते 49 लाख लोग वायरस की चपेट में आ गए थे.

अडल्ट साइट से मैलवेयर भेजना आसान

वायरस के ज़रिए आपकी कीमती इंफोर्मेशन निकालने वाले हैकर्स आपत्तिजनक कंटेंट वाली वेबसाइट या ऐप्स के ज़रिए एंड्रॉयड डिवाइस में मैलवेयर भेज देते हैं. यही कारण है कि स्मार्टफोन में ऐसा कंटेंट देखने वाले एंड्रॉयड यूजर्स सबसे ज़्यादा प्रभावित होते हैं.

कैसे होती है धोखाधड़ी

रिपोर्ट के मुताबिक 90 हज़ार बॉट स्पैम फेक आपत्तिजनक कंटेंट वेबसाइट से जुड़े हैं. इन्हीं फेक बॉट स्पैम के ज़रिए हैकर्स ज़रूरी सूचनाओं को आपके मोबाइल से चुरा कर लाखों-करोड़ों का चूना लगा देते हैं.

रिसर्चर्स के मुताबिक आपत्तिजनक कंटेंट को मैलवेयर की तरह यूजर्स तक पहुंचाना आसान होता है. आम लोग धोखे से इसके शिकार भी बन जाते हैं. ये मैलवेयर इस कंटेंट के दौरान ऐड की तरह आते हैं. ये आपके ऑपरेटिंग सिस्टम और बैट्री को निशाना बनाते हैं.

COMMENTS

%d bloggers like this: