रातभर किशोरी को बंधक बना की घिनौनी हरकत, परिजनों को मारने की धमकी से खामोश..

असल न्यूज़ : किशोरी को कमरे में बंधक बनाकर दुष्कर्म करने के दोषी को कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है। साथ ही उस पर 1.52 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। सबूतों के अभाव में दो आरोपितों को बरी कर दिया गया।

इसराना थाने में एक व्यक्ति ने 8 जून 2016 को नाबालिग बेटी के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी। अगले दिन पुलिस ने किशोरी को गांव वासी राहुल के घर से बरामद किया था। किशोरी ने मेडिकल कराने से इन्कार करते हुए, कोर्ट में 164 सीआरपीसी के बयान में अपने साथ कुछ गलत न होने की बात कही थी। पुलिस ने 10 जून 2016 को राहुल को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश कर दिया था। अगले दिन किशोरी परिजनों के साथ तत्कालीन एसपी के समक्ष पेश हुई। 

परिवार को जान से मारने की दी थी धमकी
उसने बताया कि राहुल, उसके दोस्त विक्की और राकेश ने उसे पूरी रात बंधक बनाकर रखा और मारपीट कर दुष्कर्म किया। आरोपितों ने पुलिस को बताने पर पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी थी, इस डर से वह सही बयान नहीं दे सकी थी। 

दो आरोपित हुए बरी
इसके बाद पुलिस ने मुख्य आरोपित के खिलाफ 4 पोक्सो एक्ट और विक्की व राकेश के खिलाफ 319 सीआरपीसी का मुकदमा दर्ज कर लिया था। मेडिकल में किशोरी के साथ दुष्कर्म की पुष्टि हो गई थी। पीडि़ता ने कोर्ट में विक्की और राकेश के खिलाफ ऐसा कोई बयान नहीं दिया जिससे वह दोषी साबित हो सकें। पुलिस भी उनके खिलाफ सबूत पेश न कर सकी। मंगलवार को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश शशिबाला चौहान ने दोनों को बरी करते हुए राहुल को सजा सुना दी। 

दोषी को सुनाई सजा और जुर्माना 
चार पोक्सो एक्ट में 10 साल सजा, 50 हजार रुपये जुर्माना, नहीं देने पर एक साल अतिरिक्त। 366 आइपीसी में सात साल, 40 हजार, नहीं देने पर छह माह अतिरिक्त। 363 और 566आइपीसी में पांच-पांच साल, 30-30 हजार, नहीं देने पर 6-6 माह अतिरिक्त। धारा 342 और 323 में एक साल, एक हजार जुर्माना, नहीं देने पर तीन-तीन माह अतिरिक्त सजा। सभी सजा एक साथ चलेंगी।

COMMENTS

%d bloggers like this: