पंजाब में कैंसर की बीमारी ले रही महामारी का रूप, मशहूर हो रही कैंसर ट्रेन!

'बठिंडा से बीकानेर' जाने वाली ट्रेन को लोगों ने कैंसर ट्रेन नाम दे दिया हैI

कैंसर ट्रेन

असल न्यूज़ : (आकांक्षा चांदोलिया) पंजाब में कैंसर की बीमारी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि यहां रोजाना ‘बठिंडा से बीकानेर’ जाने वाली ट्रेन को लोगों ने कैंसर ट्रेन नाम दे दिया है पूछताछ करते समय खिड़की पर अफसरों से और लोगों की जुबान पर आप कैंसर ट्रेन ही सुनेंगे यह ट्रेन रोजाना 9:00 बज गए 25 मिनट पर चलती है और इसके इसमें 12 डब्बे हैं. इस ट्रेन की खासियत है इस ट्रेन में कोई भी कैंसर का मरीज मुफ्त यात्रा कर सकता है और साथ ही मरीज के साथ एक यात्री को 75% तक की छूट भी मिलती है. करीबन 200 से ज्यादा कैंसर मरीज इसमें रोजाना सवार होते हैं, जिनका गंतव्य “ACHARYA TULSI REGIONAL CANCER TREATMENT & RESERACH CENTRE” होता है.
ACHARYA TULSI REGIONAL CANCER TREATMENT & RESERACH CENTRE को सरकारी सहायता और साथ ही ACHARYA TULSI SHANTI PRATISHTHAN का सहयोग मिला हुआ है. यह हॉस्पिटल देश के  टॉपलिस्ट कैंसर हॉस्पिटल में से एक हैं. जहां कैंसर का इलाज किफायती खर्चे के साथ मुमकिन है. यहां दवाइयां भी बाकी अलग संस्थाओं से काफी किफायती दाम में मिलती है. “कैंसर रहित पंजाब” स्कीम के तहत यह हॉस्पिटल दर्ज हैं. पंजाब के सबसे करीब इस कैंसर हॉस्पिटल की होने से ही पंजाब के लोग कैंसर ट्रेन से बीकानेर आते हैं.
ट्रेन का असली नाम भूलकर लोग इसे  ‘कैंसर ट्रेन’ के नाम से पुकारने लगे हैं क्योंकि ट्रेन में ज्यादातर कैंसर पीड़ित लोग ही सवार होते हैं. यह तो हम सभी जानते हैं पंजाब खेती-बाड़ी और किसानों का शहर है. जहां के पानी के साथ-साथ खेती में काम लिए जा रहे ‘रसायनिक-खाद’ यहां के लोगों के कैंसर ग्रस्त होने के कारणों में से एक है. पानी में NITRATE होना पानी को प्रदूषित कर देता है. जो कि यहां के लोग खेतीबाड़ी के लिए उपयोग करते हैं. फसलों में अत्यधिक मात्रा में फ़र्टिलाइज़र ने यहां के किसानों एवं अन्य लोगों को फसलों के साथ-साथ कैंसर भी विरासत में दे दिया है. पंजाब में लोग तो यहां तक पंजाब को ‘कैंसर-जॉन’ वाला इलाका तक घोषित करने के लिए बोलते हैं.यहां बस यूं कह लीजिए की मौत की खेती हो रही है.
हानिकारक ‘कीटनाशकों’, ‘पानी’, और ‘भारी धातु’ का उपयोग कैंसर को फैलाता जा रहा है! और खासतौर पर पंजाब की हरियाली पर इन रसायनों ने ‘कैंसर’ नाम की दीमक लगा दी है!
न जाने यह कैंसर ट्रेन अब बंद होगी या नहीं! बस अब वह दिन ना आए कि पंजाब की पटरियों पर अनेकों कैंसर ट्रेनों की बढ़ोतरी हो जाए! आशा करते हैं पंजाब के लोगों को कैंसर से राहत मिले हम आपका सुरक्षित और स्वस्थ जीवन चाहते हैं.

COMMENTS

%d bloggers like this: