देशभर में नोट बंदी जैसे हालात फिर से,8 फीसदी एटीएम खाली, इन राज्यों में बढ़ा संकट

प्रतीक चित्र

दिल्ली|| देशभर में फिर से अचानक उभरे कैशसंकट ने आम आदमी की चिंताएं बढ़ा दी हैं. देश के कई राज्यों में एटीएम, बैंक में पैसा नहीं है जिसके कारण लोगों को कैश के लिए चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. हालांकि, सरकार की तरफ से लगातार कहा जा रहा है कि कोई दिक्कत नहीं है, बैंकों में भरपूर कैश है. सिर्फ अचानक निकासी से ये संकट उभरा है. अब बुधवार को भी इसका संकट देशभर में दिख रहा है.

मध्यप्रदेश में भी कैश की किल्लत हो रही है. भोपाल में एक व्यक्ति ने कहा कि वह करीब 12 एटीएम में गया, लेकिन किसी में भी पैसा नहीं मिल रहा है.

दिल्ली के खान मार्केट इलाके में कैश की दिक्कत नहीं दिख रही है. कई एटीएम में कैश मौजूद है.

प्रतीक चित्र

दिल्ली में भी कैश संकट दिखाई पड़ रहा है. कई जगहों पर कैश नहीं है तो वहीं कुछ जगहों पर गिने-चुने नोट ही निकल रहे हैं. उदाहरण के तौर पर एक व्यक्ति ने कहा कि वह 5000 रुपए निकालने आया था, लेकिन चार हज़ार ही निकाल पाया है.

लखनऊ में कैश संकट की बड़ी स्थिति नहीं दिखाई पड़ रही है. लखनऊ के अधिकतर इलाकों में एटीएम में कैश मौजूद है. हालांकि, मंगलवार को यहां भी कई जगह कैश उपलब्ध नहीं था.

पटना में मंगलवार तक कई एटीएम में कैश नहीं था. लेकिन आज एटीएम में 100 और 2000 के नोट निकल रहे हैं.

मुंबई के कई प्राइवेट बैंक एटीएम में कैश भरपूर मात्रा में है. लेकिन सरकारी बैंकों के एटीएम अभी भी खाली पड़े हैं. परेल जंक्शन के पास ICICI, IDBI, AXIX और YES बैंक में 2000 के नोट समेत कैश मौजूद है. मुंबई के कई इलाकों में लगभग हर दूसरे एटीएम में कैश की कमी है.

प्रतीक चित्र

गौरतलब है कि पिछले कई दिनों से इस प्रकार की शिकायतें आ रही थीं. लेकिन मंगलवार को अचानक पूरे देश में कैश की कमी से हड़कंप मच गया. जिसके बाद सरकार, आरबीआई सभी को अचानक एक्टिव होना पड़ा.

 

देश की राजधानी समेत समूचा एनसीआर इलाका भी आने वाले दिनों में कैश के संकट से जूझ सकता है. बताया जा रहा है कि पिछले 6 दिनों से एनसीआर के बैंकों और एटीएम में कैश की सप्लाई नहीं हुई है. दरअसल, एक महीने पहले RBI ने बैंकों के एक सर्कल से दूसरे सर्कल में ज्यादा कैश ट्रांसफर करने पर रोक लगा दी थी.

 NCR के बैंकों का कहना है कि इस समय उसे आरबीआई की ओर से उसे 200 और 100 के नोट मुहैया कराए जा रहे हैं. बैंकों का कहना है कि 2000 के नोट छोड़िए, 500 के नोट भी काफी कम मात्रा में आ रहे हैं. यहां पर आखिरी बार पिछले बुधवार को कैश सप्लाई किया गया था और इसमें भी जितनी इन बैंकों को जरूरत होती है, उनका केवल 30 फीसदी ही दिया गया था.

जानकारी के मुताबिक इस समय देश भर में सारे एटीएम में से आठ फीसदी एटीएम में कैश नहीं है. इस समय देश में कुल एटीएम के 25 फीसदी एटीएम स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पास हैं और उसके भी 16 फीसदी एटीएम में पैसा नहीं है.

 

त्योहारी सीजन होने की वजह से एक बार फिर एटीएम और बैंकों में नकदी निकालने के लिए लाइन लगने लगी हैं. सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, गुजरात के बैंकों और एटीएम में कैश की दिक्कत सामने आ रही है और अब कहा जा रहा है कि दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा और गुड़गांव भी इसकी चपेट में आ सकते हैं.

वित्त मंत्री बोले- कैश की कमी नहीं

हालांकि, मंगलवार को कैश संकट पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सरकार की ओर से सफाई पेश की है. जेटली ने कहा है कि उन्होंने पूरी स्थिति की समीक्षा की है और इस समय देश में कैश की कमी नहीं है. उन्होंने कहा है कि सिर्फ कुछ जगहों पर अचानक मांग बढ़ जाने से ये दिक्कत सामने आई है.

प्रतीक चित्र

RBI ने कहा- समस्या कुछ दिनों की

कैश संकट पर वित्तमंत्री के बाद अब आरबीआई का भी बयान आया है. आरबीआई ने कहा है कि देश में कैश का कोई संकट नहीं है. बैंकों के पास पर्याप्त मात्रा में कैश मौजूद है. सिर्फ कुछ एटीएम में ही लॉजिस्टिक समस्या के कारण ये संकट पैदा हो गया है.

आरबीआई ने कहा कि एटीएम के अलावा बैंक ब्रांच में भी भरपूर मात्रा में कैश मौजूद है. आरबीआई ने सभी बैंकों को आदेश दिया है कि वह एटीएम में कैश की व्यवस्था करे. RBI ने कहा है कि मार्च-अप्रैल के दौरान इस प्रकार की समस्या आती है पिछले साल भी ऐसा हुआ था. ये समस्या सिर्फ एक-दो दिनों के लिए ही है.

COMMENTS

%d bloggers like this: