नकली नोटों की पहचान करता है यह ऐप, आप भी डाउनलोड करें!

यह एप 'चेकफेक' नाम से लॉन्च की गई है।

 

 

असल न्यूज़ : नकली नोटों को बच्चों के मनोरंजन के लिए बनाया गया था लेकिन कई लोगों ने इसका गलत इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। जाली नोटों की मशीनें बनाकर लोगों को पागल बना रहे है। नकली नोटों को दुनिया के हर कोने में फैलाया जा रहा है। नकली नोटों की छपाई इतनी सफाई की जाती है जिससे कि आप नकली और असली नोटों को पहचान ही नहीं सकते हैं। जिससे कि काफी लोग इस नकली नोट से धोखा खा जाते हैं। इसलिए जाली नोटों को बंद करने के लिए एक एप बनाई गई है जो नकली नोटों की पहचान करके इनका पता लगा सकता है।

मुख्य करंसी नोटों में हाई सिक्योरिटी पीचर होने के बाद भी इनकी कॉपी की जाती है। इसलिए उन फीचर को हर यूजर को पता होना चाहिए जिससे सभी लोग नकली नोटों की पहचान कर सके। यह एप ‘चेकफेक’ नाम से लॉन्च की गई है। चेकफेक ब्रैंड प्रोटेक्शन सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड ने एक अनोखा ग्लोबल प्लेटफॉर्म ‘चेकफेक’ एप लांच किया है। इस एप की मदद से यूजर किसी भी मुद्रा के करंसी नोट की जांच कर सकते हैं।

चेकफेक इस एप के जरिए उपभोक्ताओं, व्यवसायियों और सरकार को जाली नोटों से होने वाले नुकसान से बचा सकते है। चेकफेक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है जहां कहीं से भी वहां की प्रचलित मुद्रा की जांच कर सकते है। चेकफेक के निदेशक और सहसंस्थापक तन्मय जयसवाल के मुताबिक दुनिया में 1.7 ट्रिलियन डॉलर जाली नोट है। चेकफेक जाली करंसी की पहचान के लिए सिंगल पॉइंट डेस्टिनेशन है। स्मार्टफोन की सहायता से इसे किसी भी जगह इस्तेमाल किया सकता है।

नकली नोट किसी भी देश की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव डालते है। सामान्य तौर पर विश्व की जिन मुद्राओं के नकली नोट छापे जाते हैं, उनमें ब्रिटिश पाउंड, यूएस डॉलर, यूरो, भारतीय रुपए और चीन की युआन मुद्रा शामिल है। जयसवाल ने कहा, ‘ कि कई ऐसी घटनाएं सामने आती है कि जब विदेशी लोगों को जाली नोट थमा दिए जाते है। इसलिए चेकफेक एप से विदेशी यात्रियों को नकली करेंसी नोटों की पहचान करने में मदद मिलेगी। साथ ही वे इस तरह की धोखाधड़ी से भी बच सकेंगे।

COMMENTS

%d bloggers like this: