Uttar Pradesh: योगीराज में सरकारी ठेकेदार और अधिकारी मिलकर काट रहे हैं चांदी

उत्तर प्रदेश।। (मो.मोईन) इसे अफसरों की मनमानी कहें या भ्रष्टाचार की इंतहा कि हथगांव विकास खंड के शाहपीरपुर चलथरा गांव में आवासों में की गई गड़बड़ी पर हुई शिकायत के बाद ग्राम विकास अधिकारी सहित अन्य जिम्मेदारों पर मुकदमा दर्ज करा दिया गया…प्रधान प्रतिनिधि पर तो कार्रवाई हो गई लेकिन बड़े पैमाने पर आवासों में गड़बड़ी करने वाले ग्राम विकास अधिकारी को बहाल करने के बाद उसे उसी गांव में फिर से तैनाती दे दी गई…वहीं मामला अधिकारियों तक पहुंचा तो अब कार्रवाई की बात कर रहे हैं।

अब इसे योगी राज में अंधेर ना कहें को फिर क्या कहे. गांव में 98 आवासों में 53 में गड़बड़ी की गई जिसमें 40 आवास अभी तक बने ही नहीं और पांच आवास ऐसे लोगों को आवंटित कर दिए गए…जो इस गांव के रहने वाले तक नहीं थे…और सभी का पैसा भी हजम कर लिया गया…जिसमें एफआईर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि शाहिद हसन और ग्राम विकास अधिकारी धर्मकीर्ति चौधरी सहित तीन लोगों कर विरुद्ध खंड विकास अधिकारी द्वारा मुकदमा हथगाम थेन दर्ज कराया गया।जब इस मामले में आंच जिले में बैठे अधिकारियों तक पहुची तो आनन फानन में इस एफ आई आर में फ़ाइनल रिपोर्ट लगवाने के साथ आरोपी ग्राम पंचायत अधिकारी धर्म कीर्ति द्वारा एक दूसरी एफ आई आर ग्राम प्रधान व उसके प्रतिनिधि के विरुद्ध दर्ज करा दी गई और दोनों आरोपियों को जेल भी भेज दिया गया।हद तो तब हो गईं जब आरोपी ग्राम पंचायत अधिकारी के निलंबन के बाद भी सरकारी खाते का संचालन उसके द्वारा ही होता रहा।जब मामला तूल पकड़ने लगा तो आला अफसर संचालन रोककर जांच कराने की बात कह रहे हैं।

जो प्रशासिनक अधिकारी की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगा रहा है। वहीं सूत्रों की माने तो धर्मकीर्ति चौधरी की विभाग में अच्छी पकड़ होने की वजह से वो मामले से साफ बच निकला…और पूरे मामले में फाईनल रिपोर्ट तक लगवा दी… बड़ा सवाल है कि देश के प्रधानमंत्री व मुख्य मंत्री तो पंक्ति में खड़े आखिरी लोगों तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने का दावा कर रहे हैं….लेकिन जबतक ऐसे भृष्ट अधिकारियों के विरुद्ध कार्य वही नही होती है तो अंतिम छोर पर खड़ा व्यक्ति सरकारी योजनाओं की आस में यूँ ही जिंदगी गुजार देगा।

COMMENTS

%d bloggers like this: