जाने क्या है ‘बाबा बर्फानी’ का ‘कृष्ण’ कनैक्शन

मथुराll (द्वारकेश बर्मन ) भगवान श्री कृष्ण की जन्मस्थली के प्रमुख शिवालयों का सम्बंध द्वापर युग की लीलाओं से जुड़ा हुआ है l

यहां श्री कृष्ण की एक झलक पाने को ललायित हिमालय से शिव शंभू ‘औघड़’ के रुप में यहां पधारे थे l तब उन्होंने गोकुल पहुंच कर माता यशोदा से बाल कृष्ण की एक झलक पाने की ज़िद की थी,किंतु बाबा शंकर के ड़रावने रुप को देख वात्सल्य की मूरत माता यशोदा ने दर्शन करवाने से साफ इंकार कर दिया था l

माता यशोदा के इंकार के चलते बाबा बर्फानी यमुना तट पर धूनी रमाकर बैठ गये थे l यह देख भगवान बालकृष्ण ने अचानक रुदन शुरू कर दिया,जिसे देख माँ यशोदा विचलित हो उठीं तभी माता यशोदा से किसी ने कहा की वह औघड़ बाबा यमुना तट पर बैठा है निश्चित ही उसी ने कुछ किया होगा…यह सुन यशोदा माई और चिंतित व व्याकुल हो उठीं l तब माँ यशोदा ने भोले बाबा को नन्द भवन में बुलवाकर बालगोपाल के दर्शन करवाये l

यही नही श्रीधाम वृंदावन में श्री कृष्ण की महारास लीला का अवलोकन करने के लिये भगवान शिव नें “गोपी” रुप भी धारण किया था l श्री कृष्ण व बाबा बर्फानी की इस लीला को साकार करता यहां का गोपीश्वर महादेव मंदिर भी जन-जन की आस्था का केन्द्र है l

कामा (राजस्थान ) जो द्वापर काल के अनुसार ब्रज की सीमा में आता है यहां स्तिथ ‘कामेश्वर’ मंदिर भी कृष्ण की द्वापर कालीन लीलाओं से जुड़ा हुआ है l

 

youtube चैनल asalnews को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं

youtube चैनल ann news को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं

youtube चैनल असल आस्था को सब्सक्राइब करें बेल आइकन को भी दबाएं

आप किसी भी राज्य से हमें खबरें भेज सकते हैं खबरें भेजने के लिए हमारी ईमेल ID mail@asalnews.com पर खबरें मेल करें

आप किसी भी राज्य से असल न्यूज़ के साथ काम करना चाहते हैं तो अपना CV हमारी ईमेल ID mail@asalnews.com  मेल करें

आधार कार्ड की कॉपी ,पैन कार्ड की कॉपी, हमें मेल करें अधिक जानकारी के लिए हमारे मोबाइल नंबर:- 9891862889,9811498341 पर संपर्क करें

COMMENTS

%d bloggers like this: