रिमझिम बारिश में मना वैलेंटाइनन

आज का वैलेंटाइन जैसा खूबसूरत दिन और उसकी ख़ूबसूरती बढ़ाता बारिश का माहौल वातावरण को और रोमानी बना रहा है किन्तु आज इंटरनेशनल ग्लोबल फैस्टिवल ऑफ़ जर्नलिज्म का अंतिम दिन है जिसमे मैं आप सभी से यही कहना चाहता हूँ की अपने काम से प्रेम करे क्योकि काम ही आपको आगे ले जाता है और समाज में एक मुकाम दिलाता है यह कहना था समारोह के अध्यक्ष संदीप मारवाह का जिनका मानना है

आधुनिकता को अपनाओं लेकिन भारतीयता व अपनी सभ्यता को न भूलो। इस अवसर पर कई गणमान्य अतिथि उपस्थित हुए जिनमें प्रमुख है आइसलैंड के राजदूत जी.आर. स्टीफ़ेन्सो, वेनेज़ुएला के राजदूत अगुस्तो मोंटियल, गैम्बिया की उच्चायुक्त ज़ैनबा जगने, कल्चरल कॉउंसलर एम्बेसी ऑफ़ इजिप्ट मोहमद शूकर नाडा, दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अस्मी रज़ा, रिपोर्टर शिवानी पांडे, अनिर्बान रॉय और भारती प्रधान ।

जी.आर. स्टीफ़ेन्सो ने कहा आजकल का मीडिया बहुत ही विशाल हो गया है कोई भी खबर कुछ ही सेकंड में पूरे विश्व में फैल जाती है फिर चाहे वो अच्छी हो या बुरी। इसमें सोशल मीडिया ने अपनी एक नई जगह बना ली है लेकिन उसका कही तो फायदा होता है तो कही बहुत बड़ा नुकसान। अस्मी रज़ा ने छात्रों को बताया कि रचनात्मकता व प्रतिभा खरीदी नहीं जा सकती यह तो इंसान में जन्मजात होती है, अगर आप क्रियेटिव हैं तो यह आपको बहुत आगे ले जाएगा।

अगुस्तो मोंटियल छात्रों को संबोधित करते हुए कहा की पत्रकारिता में नेगेटिव बातें बहुत ही जल्दी लोगों के दिमाग पर असर करती है पाॅजीटिव की तुलना में इसलिए हमारी कोशिश यही होनी चाहिए कि हम  सच्चाई को ईमानदारी के साथ पेश करे।     संस्थान के निदेशक संदीप मारवाह ने आए हुए सभी अतिथियों को इंटरनेशनल जर्नलिज्म सेंटर की आजीवन सदस्यता से सम्मानित किया। 

COMMENTS