Home Delhi दिल्लीवासियों को कोरोना रिपोर्ट के लिए 4-5 दिन तक करना पड़ रहा...

दिल्लीवासियों को कोरोना रिपोर्ट के लिए 4-5 दिन तक करना पड़ रहा इंतजार

189
0

असल न्यूज़: दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। सरकार की ओर से संक्रमण की जांच प्रतिदिन एक लाख तक बढ़ा दी गई है, जिससे जांच केंद्रों पर जांच कराने वालों और जांच रिपोर्ट लेने वालों की भीड़ बढ़ गई है। लोगों को रिपोर्ट के लिए चार-पांच दिन इंतजार करना पड़ रहा है। हिन्दुस्तान टीम की रिपोर्ट…

रिपोर्ट के लिए लगातार कॉल

मध्य दिल्ली के भोगल में बनी दिल्ली सरकार की डिस्पेंसरी पर जांच कराने वालों की भीड़ भले ही कम है, लेकिन रिपोर्ट लेने आने वालों की भीड़ लगी दिखी। डिस्पेंसरी पर जांच रिपोर्ट लेने पहुंचे अमन जैन ने बताया कि रविवार को जांच कराई थी, तभी से बुखार बना हुआ है। रिपोर्ट न तो फोन पर मिली न ही डिस्पेंसरी में मिल रही है। उन्होंने बताया कि यहां के अधिकारियों के पास भी रिपोर्ट को लेकर कोई ठोस जवाब नहीं है। अमन ने बताया कि यहां वे अकेले नहीं हैं, जो रिपोर्ट के लिए भटक रहे हैं, बल्कि 50 से अधिक लोग ऐसे हैं जिन्हें दो दिनों से रिपोर्ट नहीं मिल रही है।

मौजपुर डिस्पेंसरी मे जांच के लिए कतार

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के मौजपुर सब्जी मंडी गली नंबर-2 स्थित दिल्ली सरकार की डिस्पेंसरी में सुबह से कोरोना जांच कराने वालों की लंबी लाइन लगी थी। टेस्ट कराने वाले लोगों को एंटीजन रिपोर्ट तो हाथों-हाथ दी जा रही थी, लेकिन आरटीपीसीआर रिपोर्ट तीन से चार दिन में इंतजार करना पड़ रहा है। डिस्पेंसरी पर मौजूद कुछ लोगों का कहना था कि वह दूसरी या तीसरी बार आ रहे हैं। कई बार जांच किट में कमी की वजह से जांच नहीं हो पाई। उन्हें बगैर टेस्ट कराए लौटना पड़ा। लोगों का कहना था कि बड़ी संख्या में लोगों के जांच के लिए आने के कारण ऐसा होता है, क्योंकि आस-पास के करीब एक से डेढ़ किलोमटीर के दायरे में यह इकलौती सरकारी डिस्पेंसरी है, जहां कोरोना जांच हो रही है। यह इलाका बहुत अधिक घनी आबादी वाला क्षेत्र है, इसलिए मरीजों की संख्या भी अधिक है।

72 घंटे बाद भी रिपोर्ट नहीं

कोरोना जांच के 72 घंटे बाद भी लोगों को रिपोर्ट का इंतजार है। ऐसे में वे दुविधा में दिखे कि उन्हें कोरोना है या नहीं। अशोक नगर निवासी शिव कुमार ने बताया कि कोविड के लक्षण होने के कारण मैंने न्यू अशोक नगर मेट्रो के नीचे लगी वैन से आरटीपीसीआर कराया। 72 घंटे बीच जाते के बाद भी रिपोर्ट नहीं मिली है। मुझे पता नहीं है कि मैं पॉजिटिव हूं या निगेटिव। मुझे अब भी बुखार, बदन दर्द और अन्य लक्षण हैं। मुझे आरटीपीसीआर वैन कर्मी से एक नंबर भी मिला। उन्होंने बताया कि यदि आपकी रिपोर्ट नहीं आती है तो आप परेशान मत होना। इस नंबर पर कॉल कीजिएगा या मैसेज कीजिएगा। मैंने यह दोनों करके देख लिया पर मुझे रिपोर्ट नहीं मिली है। मुझे बताया गया कि 15 अप्रैल तक रिपोर्ट मिल सकती है।

बिना जांच कराए लौटे

पूर्वी दिल्ली के लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल में दोपहर एक बजे कोरोना जांच कराने के लिए लोगों के पहुंचने का सिलसिला जारी था। लेकिन, जांच सेंटर बंद हो चुका था। कर्मचारियों ने बताया कि आंबेडकर जयंती के चलते छुट्टी है। करीब 12:30 बजे तक जांच करने के बाद सेंटर बंद कर दिया गया। अब गुरुवार सुबह से जांच होगी। कल्याणपुरी से कोरोना जांच कराने पहुंचे चान ने बताया कि वह कोचिंग में पढ़ाते हैं। कोचिंग कक्षा बंद होने के बाद वह उत्तराखंड जाना चाहते हैं। रास्ते में कई जगह जांच होगी, इसलिए पहले से कोरोना जांच की रिपोर्ट साथ लेकर जाना चाहते हैं, ताकि रास्ते में कोई दिक्कत न हो। इस दौरान विनोद नगर की रहने वाली विमला अपनी पड़ोसी के साथ कोरोना जांच के लिए पहुंची थीं। कर्मचारियों ने उन्हें भी जांच सेंटर बंद होने की बात कह लौटा दिया। अस्पताल के कर्मचारियों ने बताया कि छुट्टी के चलते सुबह से भीड़ नहीं थी। किसी को लाइन में खड़े होने की जरूरत नहीं पड़ी, जो आया तुरंत जांच कराकर चला गया।

जांच रिपोर्ट के आने का चार दिन से इंतजार

कोरोना टेस्ट कराने को लेकर जहां एक तरफ लंबी लाइन लगी थी वहीं जांच रिपोर्ट के लिए भी लोग इंतजार करते नजर आए। शाहदरा स्थित डिस्पेंसरी में आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के बाद स्वदेश को रिपोर्ट के आने का चार दिन से इंतजार है। उन्होंने जांच 10 अप्रैल को कराई थी। उनका कहना था कि रैपिड टेस्ट की रिपोर्ट तो जल्दी आ गई। वह नेगेटिव आई है, लेकिन शाम को उन्हें बुखार आ रहा है। आरटीपीसीआर की रिपोर्ट अब तक नहीं आई है। कर्दमपुरी में कोरोना टेस्ट कराने के लिए लोगों की लंबी लाइन दिखी। यहां टेस्ट कराने गई सुमन को कतार की वजह से लौटना पड़ा। उनका कहना है कि वह गुरुवार सुबह जल्दी टेस्ट कराने जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here