Home Delhi दिल्ली के चीफ इलेक्शन आफिसर ने लोगों से की मतदाता पहचान पत्र...

दिल्ली के चीफ इलेक्शन आफिसर ने लोगों से की मतदाता पहचान पत्र को आधार से जोड़ने की अपील, बताया तरीका

54
0

असल न्यूज़: मतदाता पहचान पत्र (वोटर आइ कार्ड) को आधार नंबर से जोड़ने (लिंक) का अभियान शुरू हो गया है। इसके लिए फार्म छह-बी जारी किया गया है। इस फार्म में अपने आधार नंबर की जानकारी देकर लोग उसे मतदाता पहचान पत्र से लिंक करा सकते हैं।

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) डा. रणबीर सिंह ने लोगों से अपील की है कि वे अपना मतदाता पहचान पत्र को आधार नंबर से जरूर लिंक कराएं। उन्होंने सीईओ कार्यालय में सोमवार को मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से भी मुलाकात कर उन्हें चुनाव कानून और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम में हुए बदलाव की जानकारी दी और मतदाता पहचान पत्र को आधार नंबर से लिंक करने का तरीका और उसके फायदे बताए।

उन्होंने कहा कि मतदाता पहचान पत्र को आधार नंबर से आनलाइन व आफलाइन, दोनों तरीके से लिंक कराया जा सकता है।यह अभियान अभी स्वैच्छिक है। इसलिए जिन लोगों का पहले से मतदाता पहचान पत्र है, वे स्वेच्छा से केंद्रीय निर्वाचन आयोग या दिल्ली सीईओ कार्यालय की वेबसाइट के जरिये आनलाइन फार्म छह-बी भर सकते हैं।

मोबाइल एप और वेबपोर्टल की लें मदद

इसके अलावा वोटर हेल्पलाइन (वीएचए) या नेशनल वोटर्स सर्विस पोर्टल (एनवीएसपी) मोबाइल एप और वेबपोर्टल की मदद से भी फार्म भरकर आधार नंबर को लिंक कराया जा सकता है। डा. रणबीर सिंह ने कहा कि बूथ लेवल अधिकारी (बीएलओ) घर-घर जाकर भी यह फार्म भरवाएंगे। इसके अलावा विधानसभा क्षेत्रों में बूथ स्तर पर विशेष शिविर लगाकर मतदाता पहचान पत्र को आधार नंबर से जोड़ा जाएगा।

अप्रैल तक सभी को जोड़ने का लक्ष्य

राजधानी में करीब एक करोड़ 48 लाख मतदाता हैं। अगले साल अप्रैल तक सभी मतदाताओं के पहचान पत्र को आधार नंबर से जोड़ने का लक्ष्य है। अभियान का मकसद मतदाताओं की पहचान को सत्यापित करना है। सीईओ कार्यालय के अधिकारी बताते हैं कि कुछ लोगों के पास एक से अधिक मतदाता पहचान पत्र होने की बात सामने आई है। आधार नंबर से मतदाता पहचान पत्र के जुड़ जाने के बाद ऐसी गतिविधियों पर रोक लगेगी। इससे मतदान की प्रक्रिया अधिक पारदर्शी बनेगी।

18 साल से अधिक उम्र के जिन लोगों का मतदाता पहचान पत्र नहीं है, वे इसके लिए नामांकन करने के साथ-साथ आधार नंबर जोड़ने का फार्म साथ दे सकते हैं। यदि किसी के पास आधार नंबर नहीं है तो बीएलओ को पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, पेंशन दस्तावेज या कोई अन्य पहचान-पत्र दिखाना होगा।

घर बैठे आधार(Aadhaar) और वोटर आईडी कार्ड(Voter ID Card) को करें आपस में लिंक

एनवीएसपी वेबसाइट पर जाएं
यहां मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी के जरिए लॉग-इन करें। अगर आपके एनवीएसपी का अकाउंट नहीं है, तो अपने आप को वेबसाइट पर रजिस्टर करें
लॉग-इन के बाद ‘Search on Electoral Roll’ पर क्लिक करें
अब यहां अपनी निजी जानकारी के साथ-साथ राज्य का नाम एंटर करें। इसके अलावा आप वोटर आईडी नंबर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं
आप कैप्चा एंटर करके सर्च बटन पर क्लिक करें
इसके बाद ‘All details’ ऑप्शन पर टैप करें
आपकी स्क्रीन पर नया पेज ओपन होगा और इसमें आप ‘Feed Aadhaar No’ ऑप्शन पर क्लिक करें
अब नई स्क्रीन ओपन होगी। यहां अपनी निजी जानकारी एंटर करके सबमिट बटन पर टैप करें
अब आपका पहचान पत्र आधार कार्ड से लिंक हो जाएगा
SMS के जरिए ऐसे करें आधार से वोटर आईडी कार्ड लिंक

आप अपने रजिस्टर मोबाइल नंबर के माध्यम से एक एसएमएस भेजकर भी अपने वोटर आईडी कार्ड को अपने आधार कार्ड से लिंक कर सकते हैं। इसके लिए फॉलो करें ये प्रोसेस :-

ECILINK<स्पेस>वोटर आईडी नंबर<स्पेस>आधार कार्ड नंबर 166 या 51969 पर भेजें

फोन कॉल के जरिए ऐसे करें लिंक

कोई भी व्यक्ति सरकार द्वारा स्थापित डेडिकेटेड नंबर पर फोन करके वोटर आईडी कार्ड को आधार से लिंक कर सकता हैं। इसके लिए उनको हर दिन सुबह 10:00 बजे से शाम 5:00 बजे के बीच 1950 नंबर पर फोन कर सकते हैं। यहां पर डिटेल बताकर उससे कनेक्ट हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here