Home Crime मुरादाबाद में सामूहिक दुष्कर्म के बाद बिना कपड़ों के भागी किशोरी, 21...

मुरादाबाद में सामूहिक दुष्कर्म के बाद बिना कपड़ों के भागी किशोरी, 21 दिन बाद वीडियो वायरल

48
0

मुरादाबाद के भोजपुर थाना क्षेत्र में सनसनीखेज वीडियो वायरल हुआ है। इसमें निर्वस्त्र किशोरी सड़क पर जाते हुए दिखाई दे रही है। लोग उसके आसपास से गुजर रहे हैं, पर कोई मदद के लिए आगे नहीं आया।

यह वीडियो दुष्कर्म की घटना के बाद युवती के भागते समय बनाया गया है। जबकि इस प्रकरण में सात सितंबर को एसएसपी के आदेश पर भोजपुर पुलिस ने आरोपित युवक नितिन, कपिल, अजय, नौशे अली और इमरान निवासी इस्लाम नगर थाना भोजपुर के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म की प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठे सवाल
आरोपित नौशे अली को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस की कार्य प्रणाली पर प्रश्न उठ रहे हैं। क्योंकि पीड़िता के पिता कोर्ट में दिए बयान में घटना से इन्कार कर चुके हैं। पिता के मुताबिक उनकी बेटी मानसिक रूप से बीमार है।

प्रधानी की रंजिश में बदला लेने के लिए रची गई साजिश बताया। इतने बड़े घटनाक्रम की कड़ियां जोड़ने के बजाय पुलिस मामले को दबाने में जुटी रही। जबकि, इस घटना के सामने आने के बाद कुछ हिंदूवादी संगठनों ने विरोध किया था।

किशोरी के साथ एक सितंबर को हुई थी घटना
पीड़िता के फूफा ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि एक सितंबर 2022 को भोजपुर थाना क्षेत्र के इस्लाम नगर रंपपुर में छड़ी का मेला लगा था। मानसिक रूप से बीमार किशोरी भी मेला देखने जा रही थी। रास्ते में शाम करीब सात बजे दो बाइकों पर सवार इस्लामनगर निवासी नितिन, कपिल, अजय, नौशे अली व इमरान उसकी पीछा करने लगे।

इसके बाद आरोपित जबरदस्ती किशोरी को बाइक पर बैठाकर सैदपुर खद्दर के जंगल में ले गए और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। किशोरी की चीख पुकार सुनकर खेत पर काम कर रहे किसान रईस दौड़कर घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने आरोपितों को डांट फटकार लगाई तो वह भाग निकले।

इसके बाद किशोरी निर्वस्त्र हालत में सड़क पर पहुंची और घर की ओर जाने लगी। घर पहुंचने पर स्वजन को घटना की जानकारी हुई। पीड़िता के फूफा के अनुसार जब उन्होंने आरोपितों के घर जाकर घटना का विरोध किया, तो कहा गया कि मामला पंचायत में निपटा लिया जाएगा। अगर पंचायत नहीं कराने पर आरोपितों ने जान से मारने की धमकी दी।

पुलिस को ट्वीट किया गया वीडियो
दिल्ली की महिला पत्रकार ने 20 सितंबर को मुरादाबाद पुलिस के ट्विटर अकाउंट पर किशोरी का वीडियाे टैग करते हुए लिखा कि वो चीखती रही, चिल्लाती रही पर नौशे, इमरान व अन्य ने गैंगरेप कर, नाबालिग बच्ची को नग्न अवस्था में सड़क पर दौड़ने को किया मजबूर अब बाहुबली आरोपित परिवार को मैनेज करने पर लगे।

इस वीडियो को साढ़े तीन हजार लोगों ने री ट्वीट किया है। इस ट्वीट के ढाई घंटे बाद मुरादाबाद एसपी देहात संदीप कुमार मीणा ने वीडियो के माध्यम से बयान जारी करते हुए कहा कि इस मामले में प्राथमिकी दर्ज की गई है। एक आरोपित को जेल भेजा गया है। यह मामला पुराना है।

बदला लेने के लिए बहनोई ने रची साजिश
सामूहिक दुष्कर्म के मामले में पीड़िता के पिता ने घटना से इन्कार कर दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। उनकी बेटी मानसिक रूप से कमजोर है। जिसके चलते वह अक्सर इस प्रकार की हालत में आ जाती है। पांचों युवकों पर लगाया गया दुष्कर्म का आरोप झूठा है। बहनोई ने गांव में राशन की दुकान, जमीनी विवाद व चुनावी रंजिश बदला लेने के लिए विरोधियों पर आरोप लगाए हैं।

जांच के लिए पुलिस और प्रशासन की टीम पहुंची
इस घटना की जांच करने के लिए बुधवार को पुलिस और प्रशासन की टीम संयुक्त रूप से जांच करने के लिए पहुंची। इस दौरान पीड़िता के पिता के साथ ही गांव के अन्य लोगों के बयान दर्ज किए गए। पीड़िता के पिता का आरोप है कि बहनोई कुछ दिन पूर्व बेटी का इलाज हकीम से कराने के बहाने से मुरादाबाद ले गए थे।

इसके बाद उसे एसएसपी के सामने पेश कर दिया था। उन्होंने मुझे और मेरी पत्नी को मंदबुद्धि बता दिया। जबकि मैंने कोर्ट में पेश होकर सच को बताया है। वहीं, ग्रामीणों के अनुसार घटना के गवाह रईस व आरोपित नौशे अली के बीच जमीन के बंटवारे को लेकर विवाद है। इसके अलावा रईस की सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान का लाइसेंस आरोपित नौशे अली ने प्रधान से मिलकर रद करा दिया था। इसी का बदला लेने के लिए पीड़िता के फूफा के साथ मिलकर यह साजिश रची है।

क्या कहते हैं अधिकारी
मुरादाबाद के एसएसपी हेमंत कुटियाल का कहना है कि पीड़िता के स्वजन की तहरीर के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी। घटना की जांच की जा रही है। पीड़िता के स्वजन ने पुलिस और कोर्ट के सामने दिए बयान में घटना से इन्कार किया है। वीडियो सामने आने और घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए प्राथमिकी दर्ज कर जांच कराई जा रही थी। मेडिकल में भी मारपीट या जोर-जबरदस्ती की कोई पुष्टि नहीं हुई। जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here