Home Blog Page 3

लिवर को कमजोर कर रहा है कोरोना, पढ़ें क्या बता रहे हैं डॉक्टर्स

0

बताया जाता है कि COVID-19 मुख्यतौर पर फेफड़ों यानी कि लंग्स पर असर करता है लेकिन लगातार हो रही रिसर्च से पता चलता है कि कोरोना वायरस केवल फेफड़ों पर ही नहीं बल्कि शरीर के करीब हर पार्ट को नुकसान पहुंचा रहा है. इसमें लिवर भी शामिल है.

University of Tennessee की स्टडी में सामने आया कि करीब 11 पर्सेंट मरीजों को लिवर से जुड़ी गंभीर समस्याएं हो गई हैं. वहीं 14 से 53 पर्सेंट लोगों में लिवर एंजाइम बढ़ गए जैसे कि alanine aminotransferase (ALT) and aspartate aminotransferase (AST). इन एंजाइम के बढ़ने का मतलब होता है कि आपका लिवर टेंपरेरी तौर पर खराब हो चुका है.

कुछ मरीजों में कोविड की वजह से लिवर में सूजन और पीलिया जैसी बीमारियां भी दिखीं. Fortis Escorts Hospital, फरीदाबाद के डॉक्टर शुभम वतस्य ने बताया कि कोविड की वजह से कुछ मरीज लिवर में जलन की समस्या भी बता रहे हैं. इसका रिएक्शन हर पेशेंट पर अलग है.

डॉक्टर जतिन अग्रवाल ने बताया कि कोविड इन्फेक्शन की वजह से कई तरह की लिवर से जुड़ी समस्याएं सामने आई हैं. उदाहरण के तौर पर पीलिया से लेकर लिवर फेलियर जैसी समस्याएं देखने को मिल रही हैं. डॉक्टर के मुताबिक इस वायरस से दूरी ही हमारे लिवर को सुरक्षित रखने में हमारी मदद कर सकती है.

एक्सपर्ट्स की सलाह है कि लोग सही न्यूट्रिशन वाली डाइट लें. हाई प्रोटीन फूड रुटीन में शामिल करें. हरी सब्जियां, पनीर, फल खाएं जिनसे कि आपकी इम्यूनिटी बेहतर हो. 

Covid-19 के बढ़ते मामलों पर केंद्र सख्त, राज्यों के लिए जारी की गाइडलाइन

0

देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. नए मामलों की संख्या दो लाख के करीब पहुंच गई है. पिछले 24 घंटे में कोरोना के करीब 1.94 लाख मामले सामने आए हैं. बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने सभी राज्यों को चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा गया कि राज्य सरकारें समय पर मेडिकल ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए सभी तरह की तैयारी रखें. 

राज्य रखें ऑक्सीजन का बफर स्टॉक 
केंद्र ने राज्यों को मेडिकल ऑक्सीजन को लेकर निर्देश देते हुए कहा है कि सभी राज्य मेडिकल ऑक्सीजन का पर्याप्त बफर स्टॉक रखें. इसके अलावा मरीजों की देखभाल के लिए सभी स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराएं. केंद्र ने कहा कि राज्यों के पास कम से कम 48 घंटे का मेडिकल ऑक्सीजन स्टॉक होना चाहिए. इसमें लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) की उपलब्धता सुनिश्चित करें. इसके अलावा स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए एलएमओ टैंक पर्याप्त रूप से भरे होने चाहिए और उनकी फिर से भरने के लिए निर्बाध सप्लाई होनी चाहिए.

ऑक्सीजन प्लांट हो पूरी तरह फंक्शनल
केंद्र ने कहा कि राज्यों को यह भी सुनिश्चत करना होगा कि उनके यहां लगे सभी ऑक्सीजन प्लांट पूरी तरह फंक्शनल हो. इनका उचित रखरखाव भी किया जाए. राज्यों को भेजे निर्देश में कहा गया कि बैकअप स्टॉक और मजबूत रिफिलिंग के साथ ऑक्सीजन सिलेंडरों की पर्याप्त सूची हो. साथ ही ये भी सुनिश्चित किया जाए कि इन सिलेंडरों को भरकर तैयार रखा जाए. राज्यों में लाइफ सपोर्ट इक्विपमेंट की पर्याप्त उपलब्धता होनी चाहिए. 

11 महीने के बच्चे ने जीती कोरोना से जंग, कैसे लड़ी और जीती

0

टीवी स्टार Nakul Mehta उनकी पत्नी जानकी और 11 महीने का बेटा सूफी तीनों कोविड पॉजिटिव थे. द क्विंट से बातचीत में नकुल और जानकी ने वो मुश्किल दिन याद करते हुए कहा कि वो समय एक बुरे सपने की तरह था.

उन्होंने कहा, सबसे पहले नकुल कोविड पॉजिटिव हुए थे. मेरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी. मुझे लगा कि हम साथ में क्वारंटीन होंगे लेकिन मैं नहीं जानती थी कि हमारा बच्चा भी इस वायरस की चपेट में आ चुका है. शुरुआत में सूफी को हल्का बुखार था लेकिन जब यह लगातार बढ़ता गया तो हम बुरी तरह डर गए थे. हम लगातार सूफी का बुखार चेक कर रहे थे. डॉक्टर ने हॉट स्पॉन्ज देने को कहा लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ और हमें देर रात उसे अस्पताल ले जाना पड़ा. वह तेज बुखार में था और हिल भी नहीं रहा था.

नकुल ने बताया, मेरी रिपोर्ट आ चुकी थी इसलिए मैं घर पर था. जानकी अस्पताल गई लेकिन उनका शरीर भी कमजोर हो रहा था. सूफी के कुछ ब्लड टेस्ट हुए इसके बाद उसे बच्चों के COVID अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया. दोबारा ब्लड टेस्ट हुए सूफी को Intravenous therapy दी गई. धीरे-धीरे इलाज ने असर किया और सूफी रिकवर करने लगा.

मुजफ्फरनगर में AIMIM के 23 कार्यकर्ताओं के खिलाफ दर्ज हुई FIR!

0

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) मुजफ्फरनगर (Muzaffarnagar) के जिला अध्यक्ष और पार्टी के 23 कार्यकर्ताओं के खिलाफ चुनाव आचार संहिता और कोविड-19 ( Covid-19) नियमों का उल्लंघन कर जनसभा करने के आरोप में मंगलवार को मामला दर्ज किया गया.मुजफ्फरनगर थाना प्रभारी आनंद देव मिश्रा के मुताबिक इन्नियाजुपुरा गांव में जनसभा आयोजित करने के आरोप में पार्टी के जिला अध्यक्ष इंतजार और 23 अन्य कार्यकर्ताओं के खिलाफ कानून की अलग-अलग धाराओं में मामला दर्ज किया गया.AIMIM के जिला अध्यक्ष इंतजार ने आरोप का खंडन करते हुए कहा कि उन्होंने किसी जनसभा का आयोजन नहीं किया था, पार्टी कार्यकर्ता राज्य में विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए टिकट की वजह से एकजुट हुए थे.



क्यों हुआ है एक्शन?

चुनाव आयोग ने राज्य विधानसभा चुनाव के लिए किसी भी तरह की रैली या प्रचार सभा पर 15 जनवरी तक प्रतिबंध लगा दिया है. बढ़ते कोरोना मामलों के मद्देनजर चुनाव आयोग ने यह फैसला लिया है कि किसी भी तरह से बड़ी भीड़ कहीं एकजुट न होने पाए.

बिना इजाजत बुलाई गई थी जनसभा
 
ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने बिना अनुमति के जनसभा का आयोजन किया था. इस संबंध में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार बिना अनुमति जनसभा आयोजित की गई और वहां एआईएमआईएम कार्यकर्ताओं द्वारा कोविड प्रोटोकॉल का भी उल्लंघन किया गया.

अब सपा और कांग्रेस को बड़ा झटका, ये विधायक हुए BJP में शामिल

0

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election) का ऐलान होते ही हलचल तेज हो कई है. कई नेताओं के दलबदल की खबरें सामने आने लगी हैं. सहारनपुर जनपद के बेहट से कांग्रेस विधायक नरेश सैनी, सिरसागंज से समाजवादी पार्टी के विधायक हरिओम यादव और सपा के पूर्व विधायक धर्मपाल यादव भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं. लखनऊ में उन्हें यूपी बीजेपी (BJP) अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा ने पार्टी में शामिल कराया.  

इमरान मसूद थाम सकते हैं सपा का दामन
वहीं यूपी में कांग्रेस को एक और झटका लगने जा रहा है. कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार इमरान मसूद आज समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल होने जा रहे हैं. उनके साथ सहारनपुर ग्रामीण से कांग्रेस विधायक मसूद अख्तर भी सपा में शामिल हो रहे हैं. इससे पहले यूपी के पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के भी सपा में शामिल होने की खबरें सामने आई थी लेकिन उन्होंने अभी पत्ते नहीं खोले हैं.  
नरेश सैनी को राजनीति में लाने वाले इमरान मसूद ही हैं. इमरान ने 2012 के चुनाव में नरेश सैनी को बेहट से कांग्रेस का टिकट दिलवाया था. उस चुनाव में वह बीजेपी के महावीर राणा से महज 514 वोटों से हार गए थे, लेकिन 2017 में कांग्रेस के टिकट पर लड़े नरेश सैनी ने महावीर राणा को 25 हजार से अधिक वोटों से पटखनी दी थी.


 
7 चरणों में होगा विधान सभा चुनाव
उत्तर प्रदेश में इस बार 403 विधान सभा सीटों पर सात चरणों में चुनाव होगा और मतगणना 10 मार्च को होगी. यूपी में विधान सभा चुनाव की शुरुआत 10 फरवरी को राज्य के पश्चिमी हिस्से के 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान के साथ होगी. इसके बाद 14 फरवरी को दूसरे चरण में 55 सीटों पर, 20 फरवरी को तीसरे चरण में 59 सीटों पर, 23 फरवरी को चौथे चरण में 60 सीटों पर, 27 फरवरी को पांचवें चरण में 60 सीटों पर, तीन मार्च को छठे चरण में 57 सीटों पर और सात मार्च को सातवें तथा अंतिम चरण में 54 सीटों पर मतदान होगा.

यूपी चुनाव 2022: सपा ने तय किए 40 टिकट, गठबंधन से चंद्रप्रकाश को मिला पहला टिकट

0

समाजवादी पार्टी ने पहले व दूसरे चरण के करीब 40 उम्मीदवारों के नाम तय कर लिए हैं। स्क्रीनिंग कमेटी में मंगलवार को इसे अंतिम रूप दिया गया। बुधवार या बृहस्पतिवार को इसकी सूची जारी हो सकती है।

सपा का राष्ट्रीय लोकदल, महान दल, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी, जनवादी पार्टी, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी समेत कई अन्य दलों के साथ गठबंधन है। पहले चरण में 58 और दूसरे चरण में 55 सीटें शामिल हैं। इसमें राष्ट्रीय लोकदल को करीब 35 सीटें मिलने की बात कही जा रही है। हालांकि सपा करीब छह उम्मीदवारों को रालोद के टिकट पर मैदान में उतारने की तैयारी में है।

इस गुणा-भाग के बीच मंगलवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की अध्यक्षता में स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हुई। सूत्र बताते हैं कि इनमें से 40 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम तय कर दिए गए हैं। जल्द ही इनकी घोषणा की जाएगी। बुधवार को भी स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक होगी। इसमें भी करीब 50 नाम तय होने की उम्मीद है।

केशवदेव मौर्य के बेटे चंद्र प्रकाश मौर्य को दिया पहला टिकट
सपा के साथ गठबंधन में शामिल महान दल को पहला टिकट मिला है। यह टिकट बदायूं जिले के बिल्सी से महान दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष केशवदेव मौर्य के बेटे चंद्र प्रकाश मौर्य को दिया गया है। हालांकि अभी सपा की अधिकृत सूची जारी नहीं की गई है। पर, केशवदेव का कहना है कि महान दल और सपा गठबंधन से बिल्सी विधानसभा क्षेत्र में चंद्रपकाश मौर्य के नाम पर सहमति बनी है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की संस्तुति के बाद उनके नाम की घोषणा कर दी गई है। इसी तरह दल को मिलने वाली अन्य सीटों पर भी एक या दो दिन में घोषणा हो जाएगी।

पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक मामले में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस इंदू मल्होत्रा के नेतृत्व में समिति करेगी जांच

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी के गठन का ऐलान कर दिया है। पंजाब में हुई सुरक्षा में चूक की जांच चार सदस्यों की कमेटी करेगी। इसकी अगुवाई जस्टिस इंदु मल्होत्रा करेंगी। इसके साथ सुप्रीम कोर्ट ने सभी मौजूदा जांच कमेटियों पर रोक भी लगा दी है। बता दें कि पंजाब सरकार और गृह मंत्रालय दोनों ने मामले की जांच के लिए अपनी-अपनी कमेटी बनाई थी, दोनों ने ही एक दूसरे की जांच पर भरोसा नहीं होने की बात कही थी।


सुप्रीम कोर्ट ने अभी अपने आदेश में समय सीमा तय नहीं की है। कोर्ट ने कहा है कि समिति जल्द से जल्द अपनी रिपोर्ट देगी। कमेटी ये अध्ययन करेगी कि सुरक्षा में चूक का मूल कारण क्या था? सुरक्षा को और अभेद्य बनाने के लिए और कौन कौन से उपाय किए जा सकते हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने 10 जनवरी को मामले में फैसला सुरक्षित रखा था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पीएम की सुरक्षा में चूक की हाई लेवल जांच होगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पीएम की सुरक्षा खामियों की जांच सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज द्वारा कराई जाएगी।

तीन मुख्यमंत्री, चार उप-मुख्यमंत्री, छह केंद्रीय मंत्री समेत देश के 39 बड़े नेता संक्रमण की चपेट में, यहां पढ़िए पूरी लिस्ट

0

कोरोनावायरस की तीसरी लहर ने देश में दस्तक दे दी है। अमेरिका के बाद भारत में ही अब सबसे ज्यादा मरीज बढ़ रहे हैं। पिछले एक हफ्ते से भारत में हर दिन एक लाख से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। वहीं, अमेरिका में हर रोज छह से सात लाख लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं। 

इस बीच, संक्रमण ने देश के बड़ी राजनीतिक हस्तियों को भी निशाना बना लिया है। इस लहर में पिछले 10 दिन के अंदर देश के 39 बड़े नेता कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इनमें तीन राज्यों के मुख्यमंत्री, दो राज्यों के तीन डिप्टी सीएम, पांच केंद्रीय मंत्री भी शामिल हैं। पढ़िए पूरी लिस्ट…

इन मुख्यमंत्रियों और उप-मुख्यमंत्रियों को हुआ कोरोना
1. अरविंद केजरीवाल, दिल्ली  (अब रिकवर हो चुके हैं।)
2. नीतीश कुमार, बिहार 
3. बसवराज बोम्मई, कर्नाटक 
4. रेणु देवी, डिप्टी सीएम, बिहार 
5. तारकिशोर प्रसाद, डिप्टी सीएम, बिहार 
6. मनोगर अजगांवकर, डिप्टी सीएम, गोवा
7. दुष्यंत चौटाला, डिप्टी सीएम, हरियाणा 

ये केंद्रीय मंत्री संक्रमण की चपेट में
8. नितिन गडकरी, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री
9. राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री
10. अजय भट्ट, केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री
11. महेन्द्र नाथ पाण्डेय, केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री (अब रिकवर हुए)
12. भारती पवार, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री
13. अश्वनी चौबे, केंद्रीय उपभोक्ता, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री

भाजपा के ये दिग्गज नेता संक्रमित
14. जेपी नड्डा, राष्ट्रीय अध्यक्ष
15. मनोज तिवारी, सांसद
16. वरुण गांधी, सांसद
17. राधा मोहन सिंह, प्रभारी यूपी भाजपा 
18. खुशबू सुंदर, दक्षिण की अभिनेत्री और भाजपा नेता 
19. पंकजा मुंडे, भाजपा नेता

कांग्रेस के नेता
20. रणदीप सुरजेवाला, राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता, कांग्रेस 
21. दीपेंद्र हुड्डा, कांग्रेस सांसद 

महाराष्ट्र के मंत्री और सांसद
22. सुप्रिया सुले, एनसीपी सांसद  
23. अरविंद सांवत, शिवसेना सांसद, साउथ मुंबई 
24. राजन विचारे, शिवसेना सांसद, ठाणे 
25. एकनाथ शिंदे, नगर विकास मंत्री, महाराष्ट्र 
26. बालासाहब थोराट, राजस्व मंत्री, महाराष्ट्र  
27. वर्षा गायकवाड, शिक्षा मंत्री, महाराष्ट्र  
28. यशोमति ठाकुर, महिला बाल कल्याण मंत्री, महाराष्ट्र 

बिहार के मंत्री और नेता
29. राजीव रंजन उर्फ लल्लन सिंह, राष्ट्रीय अध्यक्ष, जेडीयू 
30. जीतनराम मांझी, पूर्व मुख्यमंत्री, बिहार 
31. अशोक चौधरी, कैबिनेट मंत्री, बिहार 
32. सुनील कुमार, कैबिनेट मंत्री, बिहार 

पश्चिम बंगाल में नेता हुए कोरोना संक्रमित 
33. डेरेक ओ ब्रायन, टीएमसी नेता  
34. बाबुल सुप्रियो, पूर्व केंद्रीय मंत्री व टीएमसी नेता 
35. कुणाल घोष, टीएमसी प्रवक्ता 

पंजाब, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के मंत्री भी कोरोना संक्रमित  
36. गोविंद सिंह राजपूत, राजस्व एवं परिवहन मंत्री, मध्य प्रदेश 
37. टीएस देव सिंह, स्वास्थ्य मंत्री, छत्तीसगढ़ 
38. राणा गुरजीत सिंह, मंत्री पंजाब

समाजवादी पार्टी
39. डिंपल यादव

कोरोना के कारण खेलो इंडिया यूथ गेम्स स्थगित,हरियाणा में कोरोना से तीन की मौत और 5746 नए केस

0

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) ने कोरोना केसों में लगातार बढ़ोतरी के मद्देनजर हरियाणा में होने वाले खेलो इंडिया यूथ गेम्स को पोस्टपोन कर दिया है। इन गेम्स की नई तिथियों की घोषणा बाद में की जाएगी। उधर राज्य में मंगलवार को सोमवार की तुलना में केवल 10 नए संक्रमित अधिक मिले। मंगलवार को 5746 नए मरीज सामने आए, जबकि सोमवार को इनकी संख्या 5736 थी।

हरियाणा में कोरोना एक्टिव केसों का आंकड़ा 25 हजार पार हो गया है। कुल एक्टिव केस 26813 हो गए हैं। ओमिक्रॉन के 26 नए केस मिले हैं, इससे प्रदेश में वैरिएंट के कुल 162 एक्टिव हो गए हैं। प्रदेश में तीन कोरोना संक्रमितों की मौत हुई। इनमें अंबाला, सिरसा और यमुनानगर से 1-1 कोरोना संक्रमित है। अब तक प्रदेश में कुल 10080 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। मंगलवार को प्रदेश में अब तक सबसे ज्यादा 51557 सैंपल लिए गए।

स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) ने हरियाणा में 5 से 14 फरवरी तक खेलो इंडिया यूथ गेम्स का आयोजन पंचकूला, अंबाला, शाहाबाद, चंडीगढ़ में कर रहा था। फिलहाल कोरोना की स्थिति को देखते हुए इन गेम्स को स्थगित कर दिया गया है। इस संबंध में स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) ने खेल फेडरशेन को पत्र लिखा है। स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (SAI) का कहना है कि एक बार देश में कोरोना कंट्रोल में जाए तो नई तिथि जारी की जाएगी। इसमें देशभर के 8500 खिलाड़ियों को भाग लेना था।

हरियाणा के जिलों में कोरोना केसों की स्थिति

जिलाकेस
गुरुग्राम2385
फरीदाबाद1015
हिसार97
सोनीपत184
करनाल349
पानीपत117
पंचकूला441
अंबाला385
सिरसा78
रोहतक96
यमुनानगर87
भिवानी76
कुरुक्षेत्र79
महेंद्रगढ़20
जींद31
रेवाड़ी47
झज्जर120
फतेहाबाद32
कैथल43
पलवल26
चरखी दादरी24
नूंह14

पॉजिटिविटी रेट यूं बढ़ता गया

  • 11 जनवरी – 13.89 प्रतिशत
  • 10 जनवरी – 14.90 प्रतिशत
  • 9 जनवरी – 10.64 प्रतिशत
  • 8 जनवरी – 7.26 प्रतिशत
  • 7 जनवरी – 8.11 प्रतिशत
  • 6 जनवरी – 5.91 प्रतिशत
  • 5 जनवरी – 5.80 प्रतिशत
  • 4 जनवरी – 3.77 प्रतिशत
  • 3 जनवरी- 2.63 प्रतिशत
  • 2 जनवरी – 1.52 प्रतिशत
  • 1 जनवरी – 1.39 प्रतिशत

आज के दिन का इतिहास: स्वामी विवेकानंद का हुआ था जन्म, इस दिन हर साल मनाया जाता है राष्ट्रीय युवा दिवस

0

महान संत और दार्शनिक स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था। स्वामी विवेकानंद की जयंती के उपलक्ष्य में हर वर्ष देश 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाता है। विवेकानंद संत रामकृष्ण परमहंस के शिष्य थे।

वह वेदांत और योग पर भारतीय दर्शन से पश्चिमी दुनिया का परिचय कराने वाली प्रमुख हस्ती थे। उन्हें 19वीं सदी के अंत में हिंदू धर्म को दुनिया के प्रमुख धर्मों में स्थान दिलाने का श्रेय जाता है। उन्होंने अपने गुरु की याद में रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन की स्थापना की।

शिकागो में दिया था यादगार भाषण

विवेकानंद को 1893 में अमेरिका के शिकागो में हुई विश्व धर्मों की संसद में दिए गए उनके भाषण की वजह से सबसे ज्यादा याद किया जाता है। दुनिया भर के धार्मिक नेताओं की मौजूदगी में जब विवेकानंद ने, ”अमेरिकी बहनों और भाइयों” के साथ जो संबोधन शुरू किया तो आर्ट इंस्टीट्यूट ऑफ शिकागो में कई मिनट तक तालियां बजती रहीं। इस धर्म संसद में उन्होंने जिस अंदाज में हिंदू धर्म का परिचय दुनिया से कराया, उससे वे पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो गए।

रामकृष्ण परमहंस थे विवेकानंद के गुरु

स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता (अब कोलकाता) में हुआ था। स्वामी विवेकानंद का बचपन का नाम नरेंद्र नाथ दत्त था। बचपन से ही उनका झुकाव आध्यात्म की ओर था। 1881 में विवेकानंद की मुलाकात रामकृष्ण परमहंस से हुई और वही उनके गुरु बन गए। अपने गुरु रामकृष्ण से प्रभावित होकर उन्होंने 25 साल की उम्र में संन्यास ले लिया। संन्यास लेने के बाद उनका नाम स्वामी विवेकानंद पड़ा। 1886 में रामकृष्ण परमहंस का निधन हो गया था।

स्वामी विवेकानंद ने 1897 में कोलकाता में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की थी। इसके एक साल बाद उन्होंने गंगा नदी के किनारे बेलूर में रामकृष्ण मठ की स्थापना की।

04 जुलाई 1902 को महज 39 वर्ष की अल्पायु में विवेकानंद का बेलूर मठ में निधन हो गया था।

राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है विवेकानंद का जन्मदिन

1984 में भारत सरकार ने स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन (12 जनवरी) को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया था और 1985 से हर वर्ष विवेकानंद की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

विवेकानंद एक सच्चे कर्मयोगी थे और उन्हें इस देश के युवाओं पर पूरा भरोसा था। उनका दृढ़ विश्वास था कि युवा अपनी कड़ी मेहनत, समर्पण और आध्यात्मिक शक्ति के माध्यम से भारत के भाग्य को बदल सकते हैं।

युवाओं के लिए उनका संदेश था, “मैं चाहता हूं कि लोहे की मांसपेशियां और स्टील की नसें हों, जिसके अंदर वैसा ही दिमाग रहता है जिससे वज्र बनता है।” इस तरह के संदेशों के माध्यम से उन्होंने युवाओं में बुनियादी मूल्यों को स्थापित करने की कोशिश की।

महात्मा गांधी ने दिया था अपना आखिरी भाषण

1948 में आज ही के दिन महात्मा गांधी ने अपना आखिरी भाषण दिया था। इसके बाद वो 13 जनवरी से अनशन पर चले गए थे। 12 जनवरी की शाम को दिए अपने आखिरी भाषण में गांधीजी ने कहा था कि सांप्रदायिक दंगों में बर्बादी देखने से बेहतर है मौत को गले लगा लेना है।

1947 में देश के विभाजन के बाद देश भर में सांप्रदायिक दंगे होने लगे। हिंदू, मुस्लिम और सिख एक-दूसरे के खून के प्यासे हो गए। इन दंगों ने गांधीजी को झकझोर कर रख दिया।

देश में दंगे रोकने के लिए उन्होंने 13 जनवरी से अनशन पर जाने का फैसला लिया। 12 जनवरी को उन्होंने दिल्ली में आखिरी भाषण दिया। इसके बाद गांधीजी अगले दिन से अनशन पर चले गए। 5 दिन बाद गांधीजी की शर्त मान ली गई और देश में शांति लाने की पूरी कोशिश की। माना जाता है कि गांधीजी का आखिरी भाषण ही उनकी हत्या का कारण बना।

30 जनवरी 1948 को जब गांधीजी बिरला हाउस में प्रार्थना करने जा रहे थे, तभी नाथूराम गोडसे ने उन पर तीन गोलियां चला दीं। महात्मा गांधी के आखिरी शब्द थे, “हे राम’।

अमेरिकी संसद ने इराक युद्ध को मंजूरी दी

1991 में आज ही के दिन अमेरिकी संसद ने इराक के खिलाफ सैन्य कार्रवाई करने की मंजूरी दी थी। तीन दिनों की बहस के बाद अमेरिकी संसद ने इस प्रस्ताव को 250 वोटों से पास कर दिया था। इसके खिलाफ 183 वोट पड़े थे।

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र ने उस समय के इराकी राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को 15 जनवरी तक कुवैत से अपनी सेना हटाने को कहा था और ऐसा न करने पर इराक को सैन्य कार्रवाई के लिए तैयार रहने की चेतावनी दी थी।

भारत और दुनिया में 12 जनवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं :

2010 : हैती में आए भूकंप में 2,00,000 से ज्यादा लोग मारे गए। इसमें शहर का एक बड़ा हिस्सा तबाह हो गया।

2009 : ए. आर. रहमान गोल्डन ग्लोब अवार्ड जीतने वाले पहले भारतीय बने।

2008 : कोलकाता के बाजार में लगी आग से सैकड़ों दुकानें क्षतिग्रस्त।

2007 : आमिर खान की फिल्म ‘रंग दे बसन्ती’ बाफ्टा के लिए नामांकित।

2005 : भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध अभिनेता और खलनायक अमरीश पुरी का निधन हुआ।

1991 : अमेरिकी संसद ने इराक के खिलाफ सैन्य कार्रवाई की मंजूर दी।

1984 : स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के तौर पर मनाने का ऐलान।

1976 : जासूसी उपन्यासों की मशहूर लेखिका अगाथा क्रिस्टी का निधन।

1972 : पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की बेटी प्रियंका गांधी का जन्म 1972 को दिल्ली में हुआ।

1934 : भारत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाले क्रांतिकारी सूर्यसेन को 12 जनवरी 1934 को अंग्रेजों ने फांसी पर लटका दिया।

1931 : पाकिस्तान के मशहूर उर्दू शायर अहमद फराज का जन्म।

1908 : पेरिस स्थित एफिल टॉवर से पहली बार लंबी दूरी का वायरलेस संदेश भेजा गया।

1863 : भारतीय दार्शनिक स्वामी विवेकानंद का जन्म कोलकाता में हुआ।

1757 : पश्चिम बंगाल के बंदेल को ब्रिटिश शासको ने पुर्तगालियों से छीना।

1708 : छत्रपति शाहू जी को मराठा शासक का ताज पहनाया गया।

1598 : राजमाता जीजाबाई का जन्म महाराष्ट्र के बुलढ़ाणा शहर में हुआ।

22,950FansLike
3,119FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Recent Posts