Home Blog

भलस्वा डेरी सहित 24 घंटे में चार हत्या की वारदातें

0

राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को पिछले 24 घंटों में अलग-अलग जगहों से हत्या के मामले सामने आए हैं। पुलिस ने गुरुवार को यह जानकारी दी। पहली घटना में बुधवार शाम भलस्वा डेरी थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर क्षेत्र में दो युवकों की चाकू मारकर हत्या कर दी गयी। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मृतकों की पहचान निक्की और साहिल पांडे के रूप में हुई है। दोनों रिश्तेदार बताए जा रहे हैं।

पुलिस ने आईपीसी की धारा 302 और 34 के तहत एफआईआर दर्ज की और अपराध को अंजाम देने में इस्तेमाल हथियार बरामद किया।

दूसरी घटना में उत्तर-पश्चिम दिल्ली जहांगीरपुरी में अज्ञात हमलावरों ने 17 वर्षीय लड़के की बेरहमी से चाकू मारकर हत्या कर दी गई। मृतक शिवम मुकुंदपुर का रहने वाला था। वह दशहरा मेला देखने जहांगीरपुरी आया था। सूत्र ने बताया कि शिवम जब घर वापस जा रहा था, तब उसकी डीडीए के फ्लैट के पास तीन-चार लड़कों से कहासुनी हो गई।

सूत्र ने कहा, गुस्साए आरोपी ने उसे बेरहमी से चाकू मार दिया। वह दर्द से कराहते हुए सड़क पर गिर गया। आरोपी उसके सीने में चाकू घोंपकर मौके से फरार हो गया।

स्थानीय लोगों ने बाद में पीड़ित को पास के एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया।

इस संबंध में हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

इस बीच उत्तर-पश्चिम दिल्ली के वजीरपुर इलाके से दहेज हत्या का मामला सामने आया है। परिजनों का आरोप है कि महिला की हत्या उसके ससुराल वालों ने की है।

पुलिस ने बताया कि मृतक की पहचान हिमानी (23) के रूप में हुई है। उसकी शादी आलोक नाम के एक लड़के से हुई थी। पुलिस ने कहा कि मामले की एसडीएम स्तर पर जांच शुरू कर दी गई है।

सभी वारदातें बुधवार शाम की हैं।

भारत में बने 4 कफ सिरप पीने से हुई गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत? WHO की चेतावनी के बाद जांच में जुटी सरकार

0

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि इस बात की संभावना अधिक है कि गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत भारत में बने सर्दी-खांसी के 4 कफ सिरप पीने के कारण हुई है। इस चेतावनी के बाद केंद्र सरकार ने हरियाणा स्थित फार्मास्युटिकल कंपनी द्वारा निर्मित चार कफ सिरप की जांच शुरू कर दी है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के शीर्ष सूत्रों ने कहा है कि डब्ल्यूएचओ ने भारत के औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) को कफ सिरप के बारे में सतर्क कर दिया है।

सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन ने तुरंत मामले को हरियाणा नियामक प्राधिकरण के समक्ष उठाया और इसकी विस्तृत जांच शुरू कर दी है। सूत्रों ने कहा कि कफ सिरप का निर्माण हरियाणा के सोनीपत में मेसर्स मेडेन फार्मास्युटिकल लिमिटेड द्वारा किया गया है। उन्होंने कहा कि उपलब्ध जानकारी के अनुसार, ऐसा लगता है कि फर्म ने इन दवाइयों को केवल गाम्बिया को ही निर्यात किया था। कंपनी ने अभी तक इन आरोपों का जवाब नहीं दिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दवा के जहरीले प्रभाव की वजह से पेट में दर्द, उल्टी आना, डायरिया, मूत्र में रुकावट, सिरदर्द, दिमाग पर प्रभाव और किडनी पर असर होने लगता है। डब्लूएचओ का कहना है कि जब तक संबंधित देश की अथॉरिटी पूरी तरह से जांच ना कर ले इन दवाओं को इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इससे दूसरी जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं।

डब्ल्यूएचओ के अलर्ट के अनुसार, चार कफ सिरप में प्रोमेथाज़िन ओरल सॉल्यूशन, कोफ़ेक्समालिन बेबी कफ सिरप, मकॉफ़ बेबी कफ सिरप और मैग्रीप एन कोल्ड सिरप शामिल हैं। चेतावनी में कहा गया है, “इसे तैयार करने वाली कंपनी ने इन दवाइयों की सुरक्षा और गुणवत्ता पर डब्ल्यूएचओ को कोई गारंटी नहीं दी है।”

मंत्रालय के सूत्रों ने कहा है कि मृत्यु का सटीक कारण अभी तक डब्ल्यूएचओ द्वारा प्रदान नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ ने अभी तक दवाइयों के निर्माता की पुष्टि करने वाले लेबल के विवरण और तस्वीरें साझा नहीं की हैं। ये मौतें कब हुईं, इस बारे में WHO ने अभी तक कोई जानकारी नहीं दी है।

खेड़ा नहर से राहगीरों के साथ लूट करने वाला आरोपी मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार

0

शाहबाद डेयरी थाना पुलिस की टीम ने ट्रैप लगाकर एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो राहगीरों के साथ लूटपाट की वारदात को अंजाम दिया करता था यह एक पूरा गिरोह है और एक गिरोह सड़क पर सामान रखकर राहगीरों के साथ लूट की वारदात को अंजाम दिया करता था आरोपी सड़क पर कुर्सी में या कोई अन्य घरेलू वस्तु रखकर राहगीरों के साथ लूट की वारदात को अंजाम दिया करते थे यारों की सड़क पर घरेलू सामान रखकर लोगों के साथ लूट किया करते थे जब कोई राहगीर सामान को देख कर रुकता और उसे उठाने की कोशिश करता तो उसी दौरान आरोपी झाड़ियों में से निकल कर हथियार के बल पर उसके साथ लूट की वारदात को अंजाम दिया करते थे

आरोपियों ने अभी तक कई लोगों को अपना निशाना बनाया था जिसकी शिकायत शाहबाद डेरी थाने में दर्ज कराई गई थी वही शाहबाद डेरी थाना पुलिस ने शिकायत के आधार पर खेड़ा नहर रोहिणी सेक्टर 34 के पास ट्रैप लगाया जैसे ही पुलिसकर्मी सम्मान को उठाने के लिए पहुंचा वैसे ही आरोपियों ने उस पर हमला बोल दिया पुलिसकर्मी ने आरोपियों को रोकने के लिए हवा में दो फायर भी किए लेकिन आरोपी फरार होने लगे आरोपियों ने दिल्ली पुलिस के जवान पर 2 राउंड फायरिंग भी कर दी जिसमें एक पुलिसकर्मी घायल भी हुआ है इसके बाद पुलिसकर्मी ने तीसरा राउंड फायर किया जो कि आरोपी पैर में लगा जिसके बाद आरोपी पर दिल्ली पुलिस के जवान ने काबू पाया घायल को अस्पताल में आरोपी गोस्वाल में भर्ती कराया गया है.

गिरफ्तार आरोपी की पहचान वीरपाल के रूप में हुई है जोकि जमुना बाजार हनुमान मंदिर लोहापुल दिल्ली के रूप में हुई है वही आरोपी के बाकी साथियों की तलाश में दिल्ली पुलिस की टीम छापेमारी जारी किए हुए हैं दिल्ली पुलिस की टीम का दावा है कि जल्द ही आरोपी के बाकी साथियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा

शिक्षा के नाम पर यूनिवर्सिटी छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ बंद करें।

0

नई दिल्ली। कहने को तो शिक्षा के मंदिरों में बच्चों को शिक्षित करके राष्ट्र की धुरी बनाने का काम किया जाता है, लेकिन जहां पब्लिक स्कूलों की भारी भरकम फीसदी पर दिल्ली सरकार और माननीय कोर्ट अपने मापदंड तय करता है,वही देश की नामी गिरामी यूनिवर्सिटी (आईपी, गुरु गोबिंदसिंह आदि) भी शिक्षा के लिए आ रहे होनहार विद्यार्थियों के अभिभावकों को किस प्रकार निचोडते है,उसके भी कई उदाहरण देखने को मिलते हैं। वरिष्ठ पत्रकार विजय शर्मा ने बताया, कि पहले इन यूनिवर्सिटी से संबद्ध कालेजों व इंस्टीट्यूट में एडमिशन के नाम पर भारी भरकम प्रोस्पेक्टर थमा दिया जाता है, जिसमें कालेज को सर्वगुण संपन्न दिखाया जाता है। एडमिशन के लिए कई कालेज तो डोनेशन लेने से भी परहेज नही करते।

प्रोसपेक्टर में दिखाई गई सुविधाएं कालेज में एंट्री लेने के बाद से ही फुर्र हो जाती है। बच्चों के एडमिशन के बाद उपस्थिति कम है,तो पैसा दो, उपस्थिति पूरी कराओ, यहां तक की बच्चों के माता पिता तक की बातो को भी दरकिनार कर उनको विवश कर दिया जाता है। प्लेसमेंट के नाम पर इतने बच्चों को शिक्षित कर उन्हें रोजगार दिलाने के नाम पर भी ये कालेज सिर्फ खानापूर्ति करते हैं।इन यूनिवर्सिटी पर आधारित कालेजो में पढ़ रहे बच्चों ने नाम न लिखे जाने की शर्त पर बताया, कि कालेजो के एसी तक काम नही करते, यहां तक की मास-मीडिया कम्युनिकेशन में शिक्षा ग्रहण कर रहे बच्चों को ही इतना प्रताड़ित किया जाता है,कि वे बेचारे इन संस्थानों से शिक्षा लेकर क्या देश का भला कर सकते हैं,ये संस्थान तो केवल अपने भले की सोचकर इन बच्चों के हाथ की कलम का ही चीर -हरण कर देते हैं।

बहरहाल इस प्रकार की परिपाटी से बच्चे शिक्षित होकर एक डिग्री जरुर ले लेंगे, लेकिन सत्यता यह है,कि इतनी प्रताड़ना के बाद उनका मनोबल पूरी तरह टूट चुका होता है। केन्द्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय को इन बेलगाम यूनिवर्सिटी की भी सार्थकता को समय समय पर जांचना चाहिए, जिससे की भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के यूथ मजबूती के संदेश को परिभाषित किया जा सके।

बिना PUC सर्टिफिकेट के दिल्ली में चला रहे हैं गाड़ी? तो इन नतीजों को भुगतने के लिए रहें तैयार

0

दिल्ली में जिन वाहन मालिकों के पास अपने वाहनों के लिए वैध प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र (PUCC, पीयूसीसी) नहीं है, दिल्ली परिवहन विभाग के मुताबिक उनके वाहन के पंजीकरण प्रमाण पत्र (रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट) के निलंबित किया जा सकता है। विभाग बिना वैध पीयूसीसी वाले वाहन मालिकों को नोटिस जारी कर चेतावनी दे रहा है कि अगर उन्हें एक हफ्ते के भीतर पीयूसीसी नहीं मिला तो उनका पंजीकरण प्रमाण पत्र निलंबित कर दिया जाएगा।

राष्ट्रीय राजधानी में करीब 19 लाख वाहनों के पास वैध पीयूसीसी नहीं है लेकिन यह जानने की कोई तकनीक नहीं है कि ऐसे वाहन सड़कों पर चल रहे हैं या नहीं। परिवहन विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि दिल्ली परिवहन विभाग ने जांच के लिए एनफोर्समेंट टीम (प्रवर्तन दल) बनाए हैं। इसके साथ ही वाहन मालिकों को एसएमएस भी भेजे जा रहे हैं, जिसमें उनके पास पीयूसीसी नहीं होने पर दंड की चेतावनी दी गई है।

यह पहल ऐसे समय में आई है जब दिल्ली सर्दियों की शुरुआत से पहले विंटर एक्शन प्लान (शीतकालीन कार्य योजना) की तैयारी कर रही है। वाहनों से होने वाला प्रदूषण दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के स्तर के मुख्य कारणों में से एक है, खासतौर पर सर्दियों के महीनों के दौरान। इस तरह राष्ट्रीय राजधानी प्रदूषण को रोकने के लिए कई कदम उठा रही है।

हाल ही में, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने एलान किया था कि 25 अक्तूबर से वैध पीयूसीसी दिखाए बिना वाहन मालिकों को शहर के पेट्रोल पंपों पर ईंधन उपलब्ध नहीं कराया जाएगा। पेट्रोल पंपों पर प्रवर्तन दल तैनात किए जाएंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि लोग निर्देश का पालन करें।

कार्बन मोनोऑक्साइड (CO) और कार्बन डाइऑक्साइड (CO2) जैसे विभिन्न प्रदूषकों के लिए वाहनों का समय-समय पर उनके उत्सर्जन मानकों के लिए परीक्षण किया जाता है, जिसके बाद उन्हें PUC प्रमाणपत्र दिया जाता है। दिल्ली में परिवहन विभाग द्वारा अधिकृत 900 से ज्यादा प्रदूषण जांच केंद्र हैं, जो पूरे शहर में फैले पेट्रोल पंपों और वर्कशॉप में लगाए गए हैं।

पेट्रोल और सीएनजी से चलने वाले दोपहिया और तिपहिया वाहनों के प्रदूषण जांच के लिए 60 रुपये की फीस ली जाती है। जबकि चार पहिया (पेट्रोल) के लिए, यह फीस 80 रुपये है और डीजल से चलने वाले चार पहिया वाहनों के लिए, 100 रुपये देने पड़ते है।

अलीपुर थाना पुलिस की टीम ने सुलझाई नजीर की हत्या की गुत्थी दो गिरफ्तार दो फरार

0

नीति सैन: अलीपुर थाना पुलिस की टीम ने सुलझाई नजीर की हत्या की गुत्थी बीती 24 सितंबर की सुबह अलीपुर गढ़ी में नाले के पास एक अज्ञात शव की पीसीआर कॉल अलीपुर थाना पुलिस को मिली थी जिसके बाद मौके पर पहुंचे अलीपुर एसएचओ सत्येंद्र पाल सिंह तोमर, इंस्पेक्टर राजीव कुमार ,इंस्पेक्टर रवि कुमार की टीम व क्राइम टीम को भी मौके पर बुलाया गया जिसके बाद नजीर के शव को पोस्टमार्टम के लिए जहांगीरपुरी के बाबू जगजीवन राम अस्पताल में भिजवाया गया वहीं कुछ घंटे बीत जाने के बाद नजीर की पहचान हो गई नजीर अलीपुर का ही रहने वाला था हत्या की इस वारदात के बाद अलीपुर थाना एसएचओ सत्येंद्र पाल सिंह तोमर ने हत्या की इस गुत्थी को सुलझाने के लिए चार टीमों का गठन किया जिसमें से चारों टीमें अलग-अलग इलाके के सीसीटीवी फुटेज को खंगालने में लगी जिसमें से एक सीसीटीवी फुटेज में नजर आया कि एक टाटा एज दिखाई दि उसी के आधार पर अलीपुर थाना पुलिस की टीम ने काम करना शुरू किया. वही टीम का नेतृत्व अलीपुर सत्येंद्र पाल सिंह तोमर व इंस्पेक्टर राजीव कुमार, इंस्पेक्टर रवि कुमार ने किया जिसमें शामिल टीम ए: – सीसीटीवी विश्लेषण,हेड कॉन्स्टेबल विशाल, कॉन्स्टेबल अंकित, टीम बी:- सीडीआर विश्लेषण, हेड कॉन्स्टेबल प्रदीप, हेड कॉन्स्टेबल नवीन, टीम सी: – रेडिंग टीम , कॉन्स्टेबल रणजोत , हेड कॉन्स्टेबल दीपक, टीम डी: विविध कार्य ,हेड कॉन्स्टेबल रविंदर, एएसआई वेद की टीम का गठन किया गया था

नजीर की हत्या को 10 दिन बीत चुके थे इस दौरान परिजनों ने नजीर के शव को सड़क पर रखकर विरोध प्रदर्शन भी किया जिसको लेकर दिल्ली पुलिस की तरफ से परिवार को आश्वासन दिया गया कि जल्द ही इस हत्या की गुत्थी को सुलझा लिया जाएगा और आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया जाएगा आरोपी अपनी गिरफ्तारी के डर से लगातार अपना ठिकाना बदल रहे थे तभी उनकी लोकेशन हरियाणा बिहार दिखाई जा रही थी इसके बाद अलीपुर थाना पुलिस की टेक्निकल सर्वरलायंस की टीम को एक लोकेशन प्रीतमपुरा के अंदर दिखाई दी जिसके बाद टीम ने कार्रवाई करते हुए बीती रात आरोपी रंजीत व रामबालक उर्फ रामू को प्रीतमपुरा शिव मार्केट के पास से गिरफ्तार कर लिया गिरफ्तार आरोपियों के पास से वारदात में इस्तेमाल टाटा एज व एक रस्सी एक रबड का पाइप बरामद किया गया है रस्सी से बांधकर नजीर की पाइप से पिटाई की गई थी

वहीं आरोपियों ने दिल्ली पुलिस को बताया कि इनके साथ इस पूरी वारदात में इनके दो साथी और शामिल है जिनकी पहचान दिनेश अनिल के रूप में हुई है आरोपी दिनेश रंजीत की टाटा एज का ड्राइवर है आरोपी दिनेश ने ही रंजीत को फोन करके बताया था कि उसकी गाड़ी से टायर चोरी किया जा रहा था उसी को लेकर एक चोर को उसने पकड़ रखा है जिसको लेकर रंजीत अपने साथी रामबालक उर्फ रामू को लेकर वहां पहुंचा वहीं आरोपी ड्राइवर दिनेश ने अपने एक साथी अनिल को भी फोन कर दिया. जिसके बाद चारों आरोपियों ने नजीर को प्रकाश ढाबे के पास लेकर पहुंचे और उसे एक खम्बे के सहारे रात 1:00 बजे से लेकर सुबह 7:00 बजे तक बांधकर रखा और इस दौरान उसकी जमकर पिटाई की गई जिसके चलते नसीर की मौत हो गई.

बरहाल अलीपुर थाना पुलिस की टीम ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है जबकि आरोपियों के 2 साथी अभी फरार चल रहे हैं आरोपियों के दोनों साथियों की तलाश में अलीपुर थाना पुलिस की टीम हरियाणा व बिहार के कई इलाकों में छापेमारी कर रही है अलीपुर थाना पुलिस की टीम का दावा है कि जल्द ही इस हत्या में शामिल दोनों आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा

देशभर में कहां कितने बजे होगा रावण दहन, नोट कर लें टाइम

0

आज देश भर में दशहरा का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन रावण का दहन करने की परंपरा है। इस त्योहार को विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है। बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में मनाया जाने वाला ये त्योहार देश भर में बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। कहते हैं इस दिन श्री राम ने माता सीता को रावण के चंगुल से मुक्त कराया था और रावण का वध किया था। जाने देशभर में कब कितने बजे किया जाएगा रावण दहन।

रावन दहन समय (Ravan Dahan Time)
दिल्ली में रावण दहन का समय रात 8 बजे है। आयोजन स्थल रामलीला मैदान।
लखनऊ में भी रावण दहन रात 8 बजे होगा। आयोजन स्थल ऐशबाग रामलीला मैदान है
कानपुर में रावण दहन का समय रात 9 बजकर 30 मिनट है। आयोजन स्थल परेड रामलीला मैदान।
अयोध्या में रावण दहन का समय शाम 5.30 बजे है। मेले का आयोजन स्थल लक्ष्मण किला है।
इंदौर में रावण दहन का समय शाम 7:30 बजे है। यहां दशहरा का आयोजन इंदौर के दशहरा मैदान में किया जाएगा।
पटना में रावण दहन का समय 4:30 से 5:30 बजे के बीच है। यहां दशहरे के मेले का आयोजन कालिदास रंगालय में किया जाएगा।
रायपुर में रावण दहन का समय शाम 6 बजे है। यहां डब्ल्यूआरएस कॉलोनी में रावण दहन होगा।
अमृतसर में रावण दहन का समय 7.30 बजे रखा गया है। यहां रावण दहन का आयोजन रंजीत एवेन्यू में किया जा रहा है ।

दशहरा पूजा टाइम (Dussehra 2022 Puja Time)

नई दिल्ली- 02:07 PM to 02:54 PM
पूणे- 02:22 PM to 03:10 PM
चेन्नई- 01:57 PM to 02:45 PM
कोलकाता- 01:23 PM to 02:11 PM
हैदराबाद- 02:04 PM to 02:51 PM
अहमदाबाद- 02:26 PM to 03:14 PM
नोएडा- 02:07 PM to 02:54 PM
जयपुर- 02:13 PM to 03:00 PM
मुम्बई- 02:26 PM to 03:13 PM
गुड़गांव- 02:08 PM to 02:55 PM
बेंगलुरु- 02:08 PM to 02:55 PM
चंडीगढ़- 02:09 PM to 02:56 PM

Delhi Crime: बेटा ने चुराए 4.5 लाख रुपये, पिता ने किया पुलिस के हवाले

0

दिल्ली। नबी करीम इलाके में रहने वाले एक शख्स ने ईमानदारी की मिशाल पेश कर पुलिस को हैरान कर दिया है। बेटा चूना मंडी इलाके से करीब साढ़े चार लाख रुपये चोरी कर उसे पालीथिन में छिपाकर घर ले आया था। घर में उसने नए कपड़ों के बीच रुपये को छिपाकर रखने के बाद साथियों से मिलने चला गया। बेटे की गैर मौजूदगी में पिता की नजर जब रुपये पर पड़ी तब वह चौक गए। उन्होंने बेटे से बिना कुछ पूछताछ नबी करीब थाना पहुंचकर थानाध्यक्ष को रुपये सौंप दिया। रुपये सौंपकर शख्स ने थानाध्यक्ष से कहा कि वे उनके बेटे से पूछताछ कर पता लगाएं कि उसने कहां से चोरी की है। पुलिस ने शिकायतकर्ता के बेटे को थाने बुलाकर पूछताछ करने के बाद चोरी का सुबूत मिलने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया।

जिले के डीसीपी श्वेता चौहान के मुताबिक एक अक्टूबर की दोपहर करीब 12.30 बजे एक शख्स नबी करीम थाने आया और उन्होंने एसएचओ नबी करीम से मिलकर बताया कि 29 सितंबर को उनका 18 वर्षीय बेटा देव मणि उर्फ देव नए कपड़े खरीदकर घर लाया था। उसने घर में पालीथिन में रखे कपड़ों के बीच रुपये रखकर घर से गायब हो गया था। बेटे की गैर मौजूदगी में जब उन्होंने कपड़ों की जांच की तो उन्हें 500-500 रुपये के नोटों के 9 बंडल मिले। उन्होंने बेटे का पता लगाने और उससे पूछताछ कर रुपये के बारे में पता लगाने का अनुरोध किया। इस पर थानाध्यक्ष ने हवलदार जगदीश और सिपाही सीता राम को तथ्यों की पुष्टि करने और लड़के का पता लगाने की जिम्मेदारी सौंपी।

पहाड़गंज के चूना मुंडी से हुई गिरफ्तारी
उन्होंने देव मणि की तलाश कर उसे पहाड़गंज के चूना मुंडी से पकड़ लिया। पूछताछ करने पर उसने बताया कि सदर बाजार में मोटरसाइकिल सवार एक व्यक्ति के बैग से उक्त रकम चुराई थी। सदर बाजार थाना पुलिस से पूछताछ की गई लेकिन चोरी के पैसे के संबंध में वहां कोई शिकायत या प्राथमिकी दर्ज नहीं पाई गई। इसके बाद देव मणि को गिरफ्तार कर लिया गया और बरामद रुपये को थाने के मालखाना में जमा करा दिया गया।

Delhi Crime: राजधानी दिल्ली में 15 साल पुराने दोस्त को किडनैप कर की हत्या

0

असल न्यूज़। राजधानी दिल्ली में बार फिर दोस्त ने ली दोस्त की जान 15 साल पुराने दोस्त की 36 लाख रुपए के लिए हत्या की गई है। मामला वेस्ट दिल्ली के जनकपुरी थाना इलाके का है। मृतक की उम्र 59 साल थी और उसे पहले किडनैप किया गया था, फिर गला दबाकर उसकी हत्या कर दी गई। बाद में शव को ग्रेटर नोएडा में एक गांव के पास नाले में ले जाकर जलाने की कोशिश की गई। जब शव डीजल से नहीं जला तो सिकंदराबाद से 3 लीटर पेट्रोल लाया गया और फिर उसे जलाया गया।

जानकारी दे हुए जिले के डीसीपी घनश्याम बंसल ने बताया की, मृतक की पहचान असित सानियाल (59) के रूप में हुई है। वहीं हत्या करने वाले दोस्त का नाम अनिल (44) है। इस हत्या में अनिल का भांजा विशाल भी शामिल था, ऐसी खबर सामने आई है। पुलिस ने विशाल को गिरफ्तार कर लिया है।

क्या है मृतक असित का बैकग्राउंड
असित जनकपुरी सी-2 ब्लॉक के निवासी थे और आरडब्ल्यूए के जनरल सेक्रेटरी भी थे। उनके साथ छोटा भाई अमित भी रहता था और दोनों भाइयों ने शादी नहीं की थी। अमित की कोरोना काल में मौत हो चुकी है और उसी के इंश्योरेंस के करीब 36 लाख रुपए इस साल जुलाई में असित के अकाउंट में क्रेडिट हुए थे। वहीं हत्या का आरोपी अनिल दिल्ली के सागरपुर का और उसका भांजा विशाल यूपी का रहने वाला है।

कौन है हत्या का आरोपी अनिल
मिली जानकारी के मुताबिक, अनिल एक बिल्डर है और वह कोरोना में हुए घाटे की भरपाई की फिराक में था। अनिल की असित से 15 साल की दोस्ती थी और अनिल को पता था कि असित के अकाउंट में 36 लाख रुपए आए हैं। अनिल ने किसी तरह फोन के इस्तेमाल से असित के अकाउंट से 15 लाख रुपए निकाल भी लिए थे। लेकिन वह पूरा पैसा साफ करना चाहता था।

इसीलिए अनिल ने अपने भांजे के साथ मिलकर असित की हत्या करने की साजिश रची। 19 सितंबर को अनिल अपने भांजे के साथ असित को अपनी गाड़ी में घुमाने ले गया और रास्ते में असित की गमछे से गला दबाकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए वह उसे ग्रेटर नोएडा के एक गांव में ले गए। यहां उन्होंने शव के ऊपर डीजल डालकर जलाने की कोशिश की लेकिन जब वह नहीं जला तो सिकंदराबाद से तीन लीटर पेट्रोल लाए और फिर आग लगा दी।

बाद में जब पड़ोसियों ने असित की गुमशुदगी की रिपोर्ट करवाई तो पुलिस ने अनिल और उसके भांजे विशाल को गिरफ्तार कर लिया।

सुल्तानपुरी में नाले से मिला युवक का शव, शव की नहीं हुई पहचान

0

असल न्यूज़। बाहरी दिल्ली के सुल्तानपुरी में मंगलवार को एक युवक का शव नाले से मिला। इस शख्स की उम्र लगभग 35 साल के आसपास बताई रही है जो पूरी तरह से गल सड़ चुका है शव। शव संजय गांधी अस्पताल के पास नाले में तैरता हुआ लोगों को दिखाई दिया जिसके बाद सुल्तानपुरी पुलिस को शव जनकारी दी गई। सुल्तानपुरी थाना पुलिस ने क्राइम टीम, फॉरेंसिक टीम मोके पर पहुंची जांच में जुटी है.

शव को पोस्टमार्टम के लिए संजय गांधी अस्पताल में भिजवा दिया गया है. ताकि आगे की जांच हो सके। यह शख्स एक्सीडेंटल नाले में गिरा है या किसी क्राइम की घटना को अंजाम देकर इसे यहां फेंका गया है. यह तो जांच का विषय है। फिलहाल पुलिस इसका पोस्टमार्टम करवा रही है उसके बाद ही यह सब साफ हो पाएगा। साथ ही पुलिस के सामने यहां चुनौती इस शव की शिनाख्त की भी है क्योंकि शव की शिनाख्त नहीं हुई है और शव की शिनाख्त होने के बाद ही जांच पूरी तरह से आगे बढ़ पाएगी।

शव 5 से 7 दिन पुराना नजर आ रहा है। नाले आसपास यहां कोई लावारिस वाहन भी नहीं मिला और ना ही लाश के पास से कुछ ऐसी पहचान वाली चीज मिली जिससे उसकी शिनाख्त हो सके। लाश के कपड़ों से भी उसकी शिनाख्त नहीं हो पा रही है क्योंकि कपड़े और लाश पूरी तरह से गल चुके हैं। फिलहाल सुल्तानपुरी थाना पुलिस संजय गांधी मेमोरियल अस्पताल में इस शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने की तैयारी कर रही है।

22,950FansLike
3,514FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Recent Posts