Wednesday, May 29, 2024
Google search engine
Homeस्वास्थ्यकमर की नसों में अकड़न को कैसे ठीक करें? बिना दवा सिर्फ...

कमर की नसों में अकड़न को कैसे ठीक करें? बिना दवा सिर्फ एक्सरसाइज से हो जाएंगे फिट

असल न्यूज़: आजकल खराब लाइफस्टाइल, घंटों कंप्यूटर और लैपटॉप पर काम करने के कारण ज्यादातर लोग कमर दर्द, नसों में तनाव, कमर की नसों में अकड़ जैसी समस्याओं से परेशान हो रहे हैं। इन समस्याओं को दवा से ठीक करने की बजाय आप योग, लाइफस्टाइल और कुछ एक्सरसाइज से भी ठीक कर सकते हैं। कंधों में दर्द, कमर दर्द और पीठ में दर्द रहने की समस्या अगर गंभीर होने लगी है तो एकदम सावधान हो जाएं। इससे आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। सुबह उठते ही कमर की नसों में अकड़न महसूस होती है या फिर कमर में दर्द रहता है तो इसका कारण आपका फिजिकली एक्टिव न होना और विटामिन डी की कमी भी हो सकती है। स्वामी रामदेव ने ऐसे कई योग बताए हैं जो कमर की नसों की अकड़न को कम कर सकते हैं। जानिए कौन से योगासन कमर दर्द और अकड़न को कम कर सकते हैं।

मकरासन
इस योगासन को पीठ और कमर के लिए फायदेमंद माना जाता है। मकरासन करने के लिए पेट के बल लेट जाएं और कोहनियों को मिला लें। अब थोड़ा ऊपर की ओर उठें और हथेलियों को ठुड्डी के नीचे लगाएं। आपको छाती को ऊपर उठाना है और पैरों को सीधे रखना है। सांस भरें और एक एक करके पैरों को मोड़ें। अब पैर की एड़ियों से नितंबों को छूने की कोशिश करें। आप इसे 10-12 बार करें। इससे स्लिप डिस्क, सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस और साइटिका का दर्द कम हो जाएगा।

त्रिकोणासन
इस आसन को करने के लिए दोनों पैरों के बीच में आपको डेढ़ फीट का गैप रखते हुए खड़े होना है। दोनों हाथों को कंधों के बराबर में खोलकर रखें। सांस अंदर भरें और बाएं हाथ को सामने से ले जाते हुए बाएं पैर के पास जमीन में रखें। आप हाथ को एड़ी के पास भी रख सकते हैं। इसी तरह से दाएं हाथ को उठाते हुए गर्दन को घुमाएं और अब दाएं हाथ को देखें। इसी तरह व्यायाम को दूसरी ओर रिपीट करें।

भुजंगासन

इससे पीठ और कमर के दर्द में काफी आराम मिलता है। भुजंगासन करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और हथेलियों को जमीन पर रखें और छाती के दोनों ओर फैलाते हुए कोहनियों को ऊपर उठाएं। आपके हाथ छाती के पास होने चाहिए। अब टांगों को सीधा रखते हुए पंजों को पीछे की ओर खींचें। गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छाती और सिर को सांप की तरहसे ऊपर उठाएं। आपकी नाभि जमीन पर टिकी होनी चाहिए। सिर्फ सिर और गर्दन को ही उठाना है और जितना पीछे हो सके ले जाएं। 30 सेकेंड होल्ड करें और फिर से इस करीब 5 बार करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments